कोरोना के खौफ के बीच खुशखबरी, पुणे में बनी परीक्षण की पहली स्वदेशी किट

नई दिल्ली: कहते हैं जान है तो जहान है, ये कहावत आपने भी ज़रूर सुनी होगी। कोरोना के इस वैश्विक महामारी से बचने के लिए हर शख़्स अपनी और अपनों की ज़िंदगी बचाने की जंग लड़ रहा है। लोग बचे रहें, सड़कों का ये सन्नाटा जल्दी टूटे, हमारी और आपकी दुनिया एक बार फिर पहले की तरह आबाद और ख़ुशहाल होकर कोरोना से ख़ौफ़ से मुक्त हो जाए। सबकुछ इसी बात पर निर्भर करता है कि हम फिलहाल क्या कर रहे हैं ? लॉकडाउन की ये तस्वीरें मानव जाति के हित में हैं, लेकिन, कोरोना के खौफ के बीच पूरी सृष्टि के हित में जो कुछ हो रहा है, वो आपको ज़रूर देखना चाहिए।

पुणे में कोरोना की जांच के लिए पूरी तरह से मेड इन इंडिया किट तैयार की गई है। वहीं, ब्रिटेन की एक कंपनी ने हवा में ही हर तरह के वायरस को 95 फीसदी तक नष्ट करने वाला विशेष मास्क तैयार करने का दावा किया है। ब्रिटेन के ही एक शख्स ने सिर्फ़ 3 दिन में विशेष वेंटिलेटर तैयार कर दिया है। ये वेंटिलेटर कोरोना के संक्रमण से बचाने में मदद करता है। कोरोना वायरस के फैलते दायरे को सीमित करने वाली कोशिशों बहुत तेज़ी से चल रही हैं। इसलिए घबराने की ज़रूरत नहीं है। वायरस को ख़त्म करने की उम्मीदें ज़िंदा रखने वालों के हौसले को सलाम कीजिए।

पुणे की एक निजी मेडिकल कंपनी ने दिन-रात की मेहनत के बाद एक ऐसी किट तैयार की है, जिसके बारे में दावा है कि ये कोविड 19 कोरोना वायरस की जांच कर सकती है। Mylab कोविड-19 जांच किट बनाने वाली पहली भारतीय कंपनी है। ICMR ने Mylab की जांच किट को मंज़ूरी दे दी है। 25 मार्च से कोविड 19 की भारतीय जांच किट उपलब्ध है।

Mylab में जांच से 2 से ढाई घंटे में रिपोर्ट आ जाती है। मौजूदा लैब से रिपोर्ट आने में 4 घंटे ले सकते हैं। Mylab की कोरोना जांच किट का दाम 1,200 हो सकता है। WHO के मुताबिक भारत में 10 लाख लोगों में 15 की जांच हो रही है। दुनिया में सबसे कम जांच भारत में ही हो रही है। अब भारतीय किट आने से ज़्यादा से ज़्यादा जांच हो सकेगी।
मेडिकल एक्सपर्ट्स के मुताबिक कोरोना संक्रमण की जांच के लिए किट बहुत ज़रूरी है। जितने ज़्यादा सैम्पल लिए जाएंगे, उतना ही हम कोरोना के ख़तरे की सही स्थिति का अंदाज़ा लगा पाएंगे।

Share