तंबाकू और गुटखा खाने वाले सावधान, स्वास्थ्य मंत्रालय ने पैक पर जारी की नई चेतावनी

पल्लवी झा, नई दिल्ली: वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (Coronavirus) यानी कोविड 19 (Covid 19) के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए सरकार लॉकडाउन (Lockdown) समेत तमाम कदम उठा रही है। इसी कड़ी में स्वास्थ्य मंत्रालय (Ministry of Health & Family Welfare) ने तंबाकू उत्पादों (Tobacco Product)को लेकर नई अधिसूचना जारी की है। जिसके तहत तम्बाकू उत्पादों के पैकेट पर नयी स्वास्थ्य चेतावनी दी गई है। इससे पहले स्वास्थ्य मंत्रालय ने तमाम राज्यों को यह निर्देश दिया था कि सभी सार्वजनिक स्थानों पर चबाने वाले तंबाकू के इस्तेमाल पर रोक और थूकने पर जुर्माना हो। अधिसुचना के मुताबिक, राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों की सरकारों के पास विभिन्न कानूनों के तहत कोविड-19 से निपटने के जरूरी अधिकार हैं। इसमें कहा गया, ‘इसी पृष्ठभूमि में, यह अपील की जाती है कि सार्वजनिक रूप से चबाने वाले तंबाकू उत्पादों का उपयोग और थूकना प्रतिबंधित करने के लिए उचित कानून के तहत आवश्यक उपाय किए जा सकते हैं।’

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी अधिसूचना तंबाकू उत्पादों के पैक पर नई स्वास्थ्य चेतावनी दी गई है। इसमें कहा गया है कि 1 सितंबर, 2020 को या उसके बाद निर्मित या आयातित या पैक किए गए सभी तंबाकू उत्पाद पर पहली तस्वीर प्रदर्शित होनी चाहिए। साथ ही 1 सितंबर, 2021 को या उसके बाद निर्मित या आयातित या पैक किए गए तंबाकू उत्पाद पर दूसरी तस्वीर प्रदर्शित होनी चाहिए। इन नियमों का पालन न करने पर कार्रवाई की जाएगी। इससे पहले मंत्रालय ने सभी राज्यों से सार्वजनिक स्थानों पर चबाने वाले तंबाकू के इस्तेमाल और थूकने पर रोक लगाने को कहा था।

इस सिलसिले में स्वास्थ्य मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिव को इस बारे में एक पत्र भी भेजा है। जिसमें कहा गया है, ‘गैर धूम्ररहित चबाने वाले तंबाकू, पान मसाला और सुपारी से शरीर में लार अधिक बनने लगती है और इससे थूकने की अत्याधिक इच्छा होती है। सार्वजिनक स्थानों पर थूकने से कोविड-19 के प्रसार में तेजी आ सकती है।’ कोरोना वायरस महामारी के बढ़ते खतरे को देखते हुए भारतीय आयुर्विज्ञान चिकित्सा परिषद (आईसीएमआर) ने जनता से चबाने वाले तंबाकू के उत्पादों के सेवन से दूर रहने और सार्वजनिक स्थानों पर नहीं थूकने की अपील की है।

आपको बता दें कि कोरोना वायरस महामारी के बढ़ते खतरे के मद्देनजर भारतीय आयुर्विज्ञान चिकित्सा परिषद (आईसीएमआर) ने चबाने वाले तंबाकू के उत्पादों के इस्सेतमाल से दूर रहने और सार्वजनिक स्थानों पर नहीं थूकने की अपील की थी क्योकि ऐसे उत्पादों के इस्तेमाल से मुंह में लार बनती है और लोग इसे सड़को पर फेकते हैं ।ऐसे समय में जब कोविड-19 थुकने खासने कि वजह से तेजी से फैल रहा है तो जाहिर है तंबाकू के सेवन से सार्वजिनक स्थानों पर लोग थूकते और वायरस को फैलने मदद मिल जाती। बहरहाल कुछ राज्य कोविड-19 महामारी के दौरान पहले ही सार्वजनिक स्थानों पर चबाने वाले तंबाकू उत्पादों के इस्तेमाल और थूकने पर प्रतिबंध लगा चुके हैं।

Share