Wednesday, July 8, 2020

अपने ही मुल्क में चीनी मालिकों के गुलाम बने पाकिस्तानी, काम के समय नहीं पढ़ सकते नमाज- देखें वीडियो

पाकिस्तान में काम कर रही चीनी कंपनियों ने फरमान सुना दिया है कि काम के वक्त नमाज पढ़ने की छूट नहीं दी जायेगी। जिसको नमाज पढ़नी है वो नौकरी छोड़ दे। इस फरमान के बाद पाकिस्तान में बवाल मचा हुआ है लेकिन पाकिस्तान की इमरान सरकार कान में तेल डाल कर बैठ गयी है।

नई दिल्ली। चीनी हुक्मरानों ने पाकिस्तान में अपना रंग दिखाना शुरू कर दिया है। चीनी सरकार जिस तरह का रवैया उईगर मुसलमानों के साथ करती है वैसा ही रवैया पाकिस्तान में काम कर रही चीनी कंपनी और फैक्टरी मालिकों ने शुरू दिया है। पाकिस्तानी में काम कर रही चीनी कंपनियों ने फरमान जारी किया है कि काम के घण्टों के दौरान नमाज पढ़ने की इजाजत नहीं दी जायेगी। चीनी कंपनियों ने यहां तक कह दिया है कि जिन लोगों को काम के समय नमाज पढनी है तो वो कहीं और जाकर नौकरी कर लें।

चीनी कंपनियों के इस फरमान के बाद पाकिस्तान में भूचाल मचा हुआ है। पाकिस्तानी मुल्ला मौलवियों ने लोगों को चीनी कंपनियों के खिलाफ भड़काना शुरू कर दिया है। खास बात यह है कि चीनी कंपनियों के इस फरमान की जानकारी इमरान खान को भी मिल चुकी है लेकिन इमरान सरकार के कानों पर जूं तक नहीं रेंगी है। पाकिस्तान सरकार इस तरह नमाज न पढ़ने के देने चीनी फरमान पर चुप्पी साध लेने से यह जाहिर होता है कि इमरान सरकार इस समय चीन के किस तरह के दबाव में हैं।

 

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से चीन में उइगर मुसलमानों के साथ हो रही ज्‍यादती पर सवाल पूछा जाता था, तो वे खूबसूरती से टाल जाते थे। वे इसे कभी चीन का अंदरुनी मामला बताते, तो कभी इस मुद्दे से ही पूरी तरह अंजान बन जाते। लेकिन चीन ने पाकिस्‍तान के भीतर जो काम शुरू किया है, उससे वे कभी मुंह नहीं मोड़ सकेंगे।

CPEC के बहाने पाकिस्‍तान में घुसपैठ करने वाला चीन अब धीरे-धीरे इस मुल्‍क में अपने पैर पसार रहा है। और अपने एजेंडे को भी लागू कर रहा है। आर्थिक रूप से कंगाल पाकिस्‍तान को चीन के अलावा किसी से मदद की उम्‍मीद नहीं है, इसलिए वह उसकी हर शर्तें मानता जा रहा है। लेकिन चीन ने पाकिस्‍तान में अब जो सिलसिला शुरू किया है, वह इस्‍लाम में दखल है। पाकिस्तान के युवाओं को रोजगार देने के नाम पर उसने वहां तमाम फैक्ट्रियां लगाई हैं। अब जब चीन पाकिस्तान के लोगों को रोजगार दे रहा है तो जाहिर सी बात है उसकी कुछ शर्तें भी होंगी। इन फैक्ट्रियों में नमाज के लिए छुट्टी नहीं दी जा रही है। नमाज की जिद करने वालों को उनकी नौकरी तक से निकाला गया है। एक मुस्लिम मुल्क में मुस्लिमों के साथ एक मददगार के रूप में चीन का ऐसा बर्ताव, विरोध का उठाना और आवाजों का बुलंद होना स्वाभाविक था। चीन के इस रवैये से खफा पाकिस्तान के लोग सड़कों पर है। मांग की जा रही है कि चीन पाकिस्तान के मुसलमाओं को नमाज पढ़ ने की इस्लामिक कानून लागू करने की आजादी दे।

चीन की इस हरकत पर पाकिस्तान में बाकायदा कार्यक्रम आयोजित किये जा रहे हैं और इस समस्या के लिए बाकायदा मुल्लों, मौलानाओं और मुफ्तियों की मदद ली जा रही है। इंटरनेट पर पाकिस्तान के मौलाना तारिक मसूद की क्लिपिंग वायरल होना शुरू हो गई है। यदि इस किल्पिंग का जिक्र किया जाए तो इसमें पाकिस्तान की इस ताज़ी समस्या को उठाया गया है और बताया गया है कि कैसे पाकिस्तान जैसे मुल्क तक में आम मुस्लिम चीन के हाथों ज्यादतियों का सामना कर रहे हैं। वायरल हुई इस क्लिपिंग में मुफ़्ती तारिक मसूद इस बात को कहते नजर आ रहे हैं कि इसके खिलाफ पाकिस्तान के लोगों को आवाज उठानी चाहिए इसका विरोध दर्ज करना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

कोरोना के बाद इंडिया से बाहर इंडिया का अद्भुत कारनामा, चीन और पाकिस्तान कर रहे स्यापा

नई दिल्ली। यूरोपियन यूनियन हो या फिर यूनाईटेड नेशंस हर तरफ भारत का बोलवाला है। अमेरिका, ब्रिटेन हो फिर रूस हर कोई भारत से...

नेपाल में उठा सियासी तूफान, चालबाज चीन ने राष्ट्रपति भवन को भी जाल में फंसाया

नई दिल्ली। चालबाज चीन ने नेपाल के राष्ट्रपति भवन को भी अपने जाल में फंसा लिया है। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग चाहते हैं...

सपना चौधरी ने इस गाने पर डांस से जीता फैंस का दिल, पागल हो गए लोग, देखें वीडियो

नई दिल्लीः हरियाणवी सिंगर (Haryanvi Dancer) और डांसर सपना चौधरी (Sapna Chaudhary) की पहचान किसी बॉलीवुड सिलेब्स से कम नहीं है। वो जब मंच...

लॉकडाउन में बुक कराए गये टिकटों का रिफंड नहीं दे रहीं एयरलाइंस, सुप्रीम कोर्ट ने जारी किया नोटिस

नई दिल्ली। कोरोना लॉकडाउन के दौरान बुक किए गये हवाई टिकटों की वापसी में एयर लाइन हीलाहवाली कर रही हैं। यात्रियों पर जबरन क्रेडिट...