Monday, April 6, 2020

ऐसे करें मां चंद्रघंटा की आराधना, हर तरह के भय और कष्ट से मिलेगी मुक्ति

Chaitra Navratri 2020: आज चैत्र नवरात्रि (Chaitra Navratri 2020) का तीसरा दिन है। इस दिन माता के तीसरे स्वरूप मां चंद्रघंटा (Chandraghanta) की पूजा और आराधना की मान्यता है। मां दुर्गा के इस स्वरूप की वैष्णो देवी में भी पूजा की जाती है।

Chaitra Navratri 2020: आज चैत्र नवरात्रि (Chaitra Navratri 2020) का तीसरा दिन है। इस दिन माता के तीसरे स्वरूप मां चंद्रघंटा (Chandraghanta) की पूजा और आराधना की मान्यता है। मां दुर्गा के इस स्वरूप की वैष्णो देवी में भी पूजा की जाती है।

शास्त्रों के अनुसार मां चंद्रघंटा का रूप बहुत ही सौम्य है। मां को सुगंध प्रिय है। उनका वाहन सिंह है। उनके दस हाथ हैं। हर हाथ में अलग-अलग शस्त्र हैं। वे आसुरी शक्तियों से रक्षा करती हैं। मां चंद्रघंटा की आराधना करने वालों का अहंकार नष्ट होता है और उनको सौभाग्य, शांति और वैभव की प्राप्ति होती है। मां चंद्रघंटा की आराधना से साधक में वीरता और निर्भयता के साथ ही सौम्यता और विनम्रता का विकास होता है।

मां चन्द्रघंटा अपने प्रिय वाहन सिंह पर बैठकर होकर अपने दस हाथों में खड्ग, तलवार, ढाल, गदा, पाश, त्रिशूल, चक्र, धनुष, भरे हुए तरकश लिए मंद मंद मुस्कुरा रही होती हैं। मां चंद्रघंटा की पूजा करने से जातक के सभी पाप नष्ट हो जाते हैं और जन्म-जन्मातर के डर खत्म हो जाते हैं और जातक निर्भय बन जाता है।

ज्योतिषियों का मानना है कि मां चंद्रघंटा की कृपा से अलौकिक वस्तुओं के दर्शन होते हैं, दिव्य सुगंधियों का अनुभव होता है। शास्त्रों के अनुसार मां चंद्रघंटा का ये रूप कल्याणकारी है। मां चंद्रघंटा व्यक्ति के मन पर स्वामित्व रखती हैं। माता देवगण, संतों और भक्त जन के मन को संतोष प्रदान करती हैं।

मां चंद्रघंटा की ऐसे करें पूजा 

मां चंद्रघंटा को केसर और केवड़ा जल से स्नान कराएं, साथ ही मां चंद्रघंटा को सुनहरे या भूरे रंग के वस्त्र पहनाएं। साथ आप स्वयं भी इसी रंग के कपड़ों को पहन लें। मां चंद्र घंटा को केसर के साथ दूध से मिठाइयों से भोग भी लगाएं। मां को सफेद कमाल और पीले गुलाब की माला चढ़ाएं। साथ ही पंचमृत, चीनी व मिश्री का भोग लगाए।

पूजा के मंत्र

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ चंद्रघंटा रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

पिण्डजप्रवरारूढा चण्डकोपास्त्रकैर्युता।
प्रसादं तनुते मह्यं चंद्रघण्टेति विश्रुता।।

ऊँ चं चं चं चंद्रघंटायेः ह्रीं नम:।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

आने वाले समय में और भी सस्‍ता होगा पेट्रोल-डीजल, ये है कारण

नई दिल्‍ली: कच्‍चे तेल के दामों में एक बार फिर कमी देखने को मिली है। पिछले सप्ताह अंतर्राष्ट्ररीय बाजार में कच्चे तेल के दाम...

कोरोना पॉजिटिव तबलीगी जमाती ने डॉक्‍टर पर थूका

नई दिल्‍ली: कुछ लोगों का कहना है कि तबलीगी जमात के लोगों को बदनाम किया जा रहा है। लेकिन जिस तरह की खबर तबलीगी...

पाकिस्‍तान में कोरोना मचाएगा ऐसा हाहाकार, हो जाएंगा बर्बाद

नई दिल्‍ली: पाकिस्तान में अप्रैल महीने के आखिरी हफ्ते तक पाकिस्तान में कोरोना वायरस पीड़ितों की संख्या पचास हजार तक पहुंच सकती है। एक...

इसलिए इंडियन क्रिकेटर एसोसिएशन पर बुरी तरह भड़क गए सुनील गावस्कर

कोरोना वायरस की वजह से सभी खिलाड़ी लॉकडाउन में रहने को मजबूर हैं। इसी वजह से कोई भी स्पोर्टिंग इवेंट नहीं हो रहा है।...