Madhya Pradesh: स्कूल बस में ड्राइवर ने बच्ची से किया था दुष्कर्म, महिला हेल्पर ने भी की थी मदद, दोनों गिरफ्तार

घटना 8 सितंबर की है, जब रोजाना की तरह बच्ची स्कूल करीब डेढ़ बजे घर पहुंची। बच्ची की मां ने देखा कि बेटी की ड्रेस बदली हुई थी।

विपिन श्रीवास्तव, भोपाल: मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के एक निजी स्कूल के बस ड्राइवर और महिला हेल्पर को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोप है कि ड्राइवर ने बस के अंदर साढे 3 साल की एक बच्ची से दुष्कर्म किया और बस में मौजूद महिला हेल्पर ने मामले को छिपाने की कोशिश की।

मामला भोपाल के नीलबड़ इलाके का है, जहां की बच्ची के साथ दुष्कर्म की वारदात सामने आई। बताया जा रहा है कि वारदात के बाद जब बच्ची घर पहुंची तो उसकी ड्रेस और प्राइवेट पार्ट पर चोट के निशान देखकर परिजन को इसकी जानकारी हुई। पैरेंट्स ने बच्ची से गुड और बैड टच के बारे में पूछा तो बस ड्राइवर का नाम सामने आया।

अभी पढ़ें Gujarat: केजरीवाल बोले- कांग्रेस पार्टी खत्म, अब उस पर न करें अपना वोट खराब

स्कूल प्रबंधन ने कार्रवाई नहीं की, फिर पुलिस से की गई शिकायत

आरोप है कि बच्ची के परिजन ने जब इस मामले में स्कूल मैनेजमेंट से शिकायत की तो उन्होंने मामले को अनसुना कर दिया जिसके बाद पुलिस से शिकायत की गई। पुलिस ने आरोपी बस ड्राइवर हनुमंत के खिलाफ पोक्सो एक्ट और धारा 376 के तहत केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया है।

गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि आरोपी बस ड्राइवर हनुमंत और महिला हेल्पर उर्मिला की गिरफ्तारी हो चुकी है। इस मामले में स्कूल प्रबंधन ने भी लीपापोती की कोशिश की है, इसीलिए उनको भी जांच और पूछताछ में लिया जाएगा। दोषी होने पर स्कूल प्रबंधन के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।

आठ सितंबर की है घटना

घटना 8 सितंबर की है, जब रोजाना की तरह बच्ची स्कूल करीब डेढ़ बजे घर पहुंची। बच्ची की मां ने देखा कि बेटी की ड्रेस बदली हुई थी। मां ने बच्ची से पूछा कि आपकी ड्रेस किसने बदली, तो बच्ची ने बताया कि ड्राइवर ने उसकी ड्रेस बदली है। इसके बाद बच्ची की मां ने स्कूल प्रबंधन को फोन किया तो बताया गया कि बच्ची की ड्रेस नहीं बदली गई।

फिर बच्ची की मां ने अपनी बेटी को भरोसे में लेकर पूछा क्या आप के साथ स्कूल में या बस में कोई बैड टच करता है तब बच्ची ने बताया कि बस के अंकल मेरे प्राइवेट पार्ट को टच करते हैं जिसके बाद स्कूल प्रबंधन से शिकायत की गई। स्कूल प्रबंधन ने आरोपों को मानने से इनकार कर दिया। तब बच्ची के परिजनों ने पलिस से शिकायत की। इस मामले में अब बाल संरक्षण आयोग संज्ञान लेकर स्कूल प्रबंधन से जवाब तलब कर रहा है।

स्कूल शिक्षा मंत्री बोले- पूरी कार्रवाई की जा रही है

मामले को लेकर मध्य प्रदेश के स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने कहा कि इस मामले में पुलिस विभाग की ओर से पूरी कार्रवाई हो रही है। स्कूल शिक्षा विभाग भी स्कूल प्रबंधन या स्कूल बस में जो अव्यवस्था रही होगी उसकी जांच करा रहा है। जो उचित कार्रवाई हो वो करेंगे। अभिभावकों को घबराने की जरूरत नहीं जो दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कार्रवाई करेंगे।

दूसरी तरफ पुलिस की जांच में पता लगा कि स्कूल बस में CCTV कैमरा लगा था लेकिन उसके फुटेज उपलब्ध नहीं थे। स्कूल प्रबंधन ने पुलिस को बताया कि 4 दिन में कैमरे के फुटेज डिलीट कर दिए जाते हैं।

बाल संरक्षण आयोग ने भी उठाए कई सवाल

बाल संरक्षण आयोग ने इन तमाम बिंदुओं पर सवाल उठाए हैं कि बस में CCTV क्यों काम नहीं कर रहा था? ड्राइवर का वेरिफिकेशन क्यों नहीं कराया गया था? इस मामले में अब परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत का कहना है कि हम सिर्फ पूरे प्रदेश में स्कूल बसों में ही नहीं बल्कि तमाम बस ओला-उबर में पैनिक बटन लगाने जा रहे हैं ताकि महिलाओं के साथ किसी भी तरीके की घटना का तुरंत पता कमांड सेंटर में लग सके।

मामला चूंकि बेहद संवेदनशील और गंभीर है इसलिए सीएम शिवराज ने भी इस मामले में ट्वीट कर लिखा कि भोपाल के एक स्कूल बस में हुई घटना को पूरी गंभीरता से लिया गया है। उक्त प्रकरण में अपराधियों की गिरफ्तारी हो चुकी है। दुष्कर्म की इस घटना को चिन्हित अपराध की श्रेणी में लिया गया है, जिससे प्रकरण की सुनवाई जल्द से जल्द हो सकें और इस मामले में कठोर से कठोर सजा दिलाने की कार्रवाई शीघ्र सुनिश्चित की जा सके।

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी इस मामले में सरकार को घेरा है। ट्वीट कर लिखा कि मध्यप्रदेश बहन- बेटियों के मामले में लगातार असुरक्षित प्रदेश बनता जा रहा है। NCRB के आंकड़ों में भी प्रदेश मासूम बच्चियों के साथ दुष्कर्म की घटनाओं में लगातार देश में शीर्ष पर बना हुआ है।

अभी पढ़ें शादीशुदा शख्स की अनोखी प्रेम कहानी… दो बच्चों के पिता को ट्रांसवुमन से हुआ प्यार, पत्नी की सहमति के बाद शादी भी रचाई

 

कमलनाथ ने कहा कि कटनी में एक मासूम बालिका से दुष्कर्म की घटना के बाद अब प्रदेश की राजधानी भोपाल में नर्सरी में पढ़ने वाली एक साढ़े तीन वर्ष की मासूम बालिका के साथ बस में दुष्कर्म की घटना झकझोर देने वाली व बेहद ह्रदयविदारक है। मैं सरकार से मांग करता हूं कि इसके दोषियों पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई हो। पीड़ित परिवार के साथ न्याय हो और इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिये सरकार तत्काल आवश्यक सभी कदम उठाये।

अभी पढ़ें –  देश से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

Click Here – News 24 APP अभी download करें

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले न्यूज़ 24 पर फॉलो करें न्यूज़ 24 को और डाउनलोड करे - न्यूज़ 24 की एंड्राइड एप्लिकेशन. फॉलो करें न्यूज़ 24 को फेसबुक, टेलीग्राम, गूगल न्यूज़.

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
Exit mobile version