News24 Hindi

मेरे बाबूजी अस्वस्थ हैं…पिता को अस्पताल में देखकर छत्तीसगढ़ CM भूपेश बघेल की आंखें छलकीं

CM Bhupesh Baghel father Unhealthy: सीएम भूपेश बघेल के पिता नंदकुमार बघेल की तबीयत खराब होने के चलते उनको रायपुर के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। डॉक्टरों की विशेष टीम की निगरानी में उनका इलाज जारी है। इस दौरान सीएम बघेल आज पिता से मिलने हॉस्पिटल पहुंचे, इसके बाद उन्होंने खुद सोशल मीडिया हैंडल X पर लोगों से जानकारी साझा करते हुए बताया कि बाबूजी अस्वस्थ हैं। चुनाव प्रचार और सरकार के काम-काज की वजह से बीच में मैं उनसे मिल नहीं पाया और आज मैं उनसे मिलने हॉस्पिटल पहुंचा हूं। पिताजी का मैंने आशीर्वाद लिया है, मेरे पिताजी मेरी प्रेरणा हैं और उनकी जिजीविषा मेरे लिए हमेशा प्रेरणा रही है।

पिता से मिलने अस्पताल पहुंचे

बता दें कि शुक्रवार यानी 17 नवंबर को छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2023 के दूसरे चरण का मतदान समाप्त हो गया। इसके बाद शनिवार को सीएम बघेल अपने पिता से मिलने अस्पताल पहुंचे। इस दौरान सीएम बघेल ने अपने पिता से मुलाकात के बाद हालचाल लिया और डॉक्टरों से भी बातचीत की।

यह भी पढ़ें- Chhattisgarh Election: 958 कैंडिडेट की किस्मत EVM में हुई कैद, जानिए हॉट सीटों पर कैसा रहा मतदान प्रतिशत?

सीएम बघेल के पिता बीते कई दिनों से बीमार चल रहे हैं। इलाज के लिए उनको रायपुर के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इस बीच सीएम चुनाव प्रचार के दौरान भी लगातार डॉक्टरों से उनकी सेहत की जानकारी लेते रहे हैं। वहीं, दूसरे चरण का मतदान खत्म होने के बाद सीएम बघेल ने खुद अस्पताल जाकर उनकी सेहत का हालचाल लिया।

ब्रेन और स्पाईन से सम्बंधित पुरानी बीमारी

वहीं, हॉस्पिटल की ओर से जारी मेडिकल रिपोर्ट में बताया गया है कि नंदकुमार बघेल (89) को ब्रेन और स्पाईन से सम्बंधित पुरानी बीमारी है। उसके साथ-साथ उन्हें अनियंत्रित मधुमेह भी है। अभी वे लगभग एक माह से बिस्तर में है, हालांकि उनकी बीमारी में इलाज के कारण अब थोड़ा सुधार आया है। वहीं, हायर एंटीबायोटिक व फिजियोथेरेपी और नर्सिंग केयर की वजह से अब उन्हें व्हील चेयर में बैठा कर घुमाना शुरू किया गया है। ऑक्सीजन की ब्लड में मात्रा भी सामान्य हुई है और ऑक्सीजन की जरुरत भी कम हुई है लेकिन, अभी भी उनके शरीर में दाहिने भाग का लकवा है तथा बायां अंग पूरी तरह से काम नहीं कर रहा है, जिससे उनकी तबीयत अभी गंभीर और चिंताजनक बनी हुई है।

 

Exit mobile version