विराट कोहली का बड़ा खुलासा, कहा- टीम में चुने जाने के लिए मांगे गए थे पैसे

नई दिल्ली: टीम इंडिया के कप्तान और दुनिया के दिग्गज बल्लेबाजों में शुमार विराट कोहली के ने सनसनीखेज खुलासे किए हैं। विराट कोहली ने खुलासा किया है कि टीम में शामिल करने के लिए उनके पिता से पैसे मांगे गए थे। विराट कोहली ने ये खुलासा इंस्‍टाग्राम लाइव में सुनील छेत्री के साथ किया। विराट कोहली ने बताया कि एक समय स्‍टेट क्रिकेट टीम में उनके चयन के लिए पिता से पैसे मांगे गए थे। विराट कोहली ने कहा कि स्‍टेट क्रिकेट में एक बार कोई आगे आया और उनके पिता से कहा कि चयन की तो परेशानी नहीं है, मगर इसके लिए उन्‍हें कुछ अतिरिक्‍त करना होगा। यानी पैसा मांग रहे थे। इतना तो समझ में आ गया था कि वह क्‍या मांग रहा है। मगर उनके पिता मेहनत करके वकील बने और मेहनत करने वालों को ये सब भाषा समझ नहीं आती।

दरअसल विराट कोहली रविवार शाम को भारतीय फुटबॉल कप्तान सुनील छेत्री को इंस्टाग्राम लाइव में इंटरव्यू दे रहे थे। उन्होंने छेत्री से इस दौरान अपने जीवन के तमाम पहलुओं पर बात की। खासतौर पर दिल्ली की लाइफ और अपने शुरुआती स्ट्रगल के बारे में उन्होंने इस दौरान खुलकर बताया। इसी दौरान उन्होंने चयन को लेकर हुए इस कड़वे अनुभव को भी शेयर किया। विराट कोहली इंटरव्यू के दौरान अपने पापा प्रेम कोहली के बारे में बहुत सारी बातें की। उन्होंने इसी दौरान उस बात की तरफ इशारा किया, जो चयन को लेकर हुई थी। उन्होंने कहा, मैंने पहले भी इशारा किया है कि चीजें ठीक नहीं थी।

विराट कोहली ने कहा कि एक समय था कि स्टेट क्रिकेट में ‘लेफ्ट राइट’ बहुत तरह की बातें होती थीं। मेरे पापा से भी एक व्यक्ति ने कहा कि चयन के लिए विराट की मेरिट की तो कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन आपको ‘अलग’ से कुछ करना होगा। विराट ने कहा, मेरे पापा उस परिवार से आते थे, जहां उन्हें स्ट्रीट लाइट के नीचे पढ़ना पड़ा। वहां से वे मेहनत करके वकील बने, उससे पहले मर्चेंट नेवी में भी काम किया था। अब जो मेहनत करके कुछ बना हो तो उसे ये ‘गड़बड़ी’ समझ नहीं आती। उन्होंने सीधे मेरे कोच से कहा कि मेरिट से चयन होगा तो ठीक, नहीं तो हमें नहीं खिलाना है। मेरा चयन नहीं हुआ। मैं बहुत रोया, लेकिन इससे मुझे सीख मिली कि दुनिया ऐसे ही चलती है। आपको कुछ करके दिखाना होगा। ये वे बातें थीं, जो मेरे पापा ने मुझे सिखाई।

सुनील छेत्री ने विराट से पूछा, क्या कभी आप सोचते हैं कि आपके पापा होते तो आप उनके लिए क्या कर सकते थे? विराट ने कहा, जब उनका निधन हुआ तो मैं सिर्फ 18 साल का था, वो ऐसी उम्न ही नहीं थी कि मैं रोज बैठकर सोच सकता कि ये क्या हो गया। मुझे बस एक बात समझ आई कि अब अपने भाई, मां को संभालना है और इसके लिए मुझे कुछ करना ही होगा। हां, जब मैं भारत के लिए खेला, तब सोचा कि वे होते तो मैं उन्हें एक आरामदेह जिंदगी दे सकता था। वो पूरी जिंदगी वे काम करते रहे। ऐसे में मैं उन्हें ऐसी जिंदगी दे सकता था।

छेत्री ने पूछा कि तब आप कहां थे, जब 1996 वर्ल्ड कप में पाकिस्तानी बल्लेबाज आमिर सोहेल को वेंकटेश प्रसाद ने बोल्ड किया? विराट ने कहा, मैं अपने घर पर था और मैंने ठीक वैसे ही उस मूमेंट को सेलीब्रेट किया था जैसे मैं आज करता हूं। वो जो बोल्ड है ना, उससे ज्यादा आइकानिक बोल्ड हमारे लिए तो हिस्ट्री ऑफ क्रिकेट में कोई नहीं है। इस पर छेत्री ने भी बताया कि हमने भी कई दिन तक उसकी नकल की। एक सोहेल बनता था और एक प्रसाद और उसी तरह बोल्ड करके हम खूब मजा लेते थे। कोहली ने कहा, ये सब हमारी गोल्डन मेमोरीज हैं। वो शारजाह का मैच जो हम देखते थे। वो फुटबॉल के मैच देखना, बेकहम आदि को देखना। आप बास्केटबॉल जानते हैं या नहीं, लेकिन उस समय के सभी स्टार प्लेयर्स को जानना. सुबह उठकर मैच देखना।

Share