Tuesday, July 7, 2020

खेलों पर दिखेगी कोरोना की छाप, बदल जाएंगी खिलाड़ियों की ये आदतें?

क्रिकेट में तेज गेंदबाजों का गेंद को चमकाने के लिये उस पर लार लगाना, टेनिस में खिलाड़ियों का अपना तौलिया ‘बॉल ब्वायज’ को देना और फुटबॉलरों का मैच से पहले हाथ मिलाना जैसी खिलाड़ियों की कुछ ऐसी आदतें हैं जो हो सकती हैं कि कोरोना वायरस संकट से उबरने के बाद खेलों में न दिखाई दें।

नई दिल्‍ली: कोरोना वायरस ने इस समय पूरी दुनिया में कोहराम मचाया हुआ है। इस वायरस की वजह से पूरी दुनिया थम सी गई है। लोग अपने घरों में रहने को मजबूर हैं। कुछ ऐसा ही हाल खिलाड़ियों का भी है। खेलों की बात करें को पहली बार ऐसा कुछ हो रहा है जिसकी कल्पना किसी ने भी नहीं की थी। ओलंपिक जैसे बड़े खेल रद्द हो चुके हैं और कोरोना के खत्म होने के बाद भी इसका असर खेलों पर दिखने को मिल सकता है। कोरोना के बाद आपको खेलों से कुछ ऐसी आदतें नदारद दिखे जो स्‍पोर्ट का अहम हिस्सा हैं।

क्रिकेट में तेज गेंदबाजों का गेंद को चमकाने के लिये उस पर लार लगाना, टेनिस में खिलाड़ियों का अपना तौलिया ‘बॉल ब्वायज’ को देना और फुटबॉलरों का मैच से पहले हाथ मिलाना जैसी खिलाड़ियों की कुछ ऐसी आदतें हैं जो हो सकती हैं कि कोरोना वायरस संकट से उबरने के बाद खेलों में न दिखाई दें।

क्रिकेट इतिहास में शुरू से ही तेज गेंदबाज गेंद को चमकाने के लिए उस पर लार लगाते रहे हैं। इससे गेंदबाजों को स्विंग हासिल करने में मदद मिलती है लेकिन कोरोना के बाद क्रिकेट का जो नया संसार होगा उसमें हो सकता है कि गेंदबाज ऐसा ना करें। ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज पैट कमिन्स ने कहा, ’एक गेंदबाज होने के नाते मुझे लगता है कि टेस्ट मैचों में अगर हम गेंद को नहीं चमका पाएंगे तो इससे काफी मुश्किल होगी। अगर हम उन हालात में हुए जहां बीमारी दोबारा फैल सकती है तो, मुझे नहीं लगता कि हम खेल भी रहे होंगे।’

टेनिस में अक्सर देखने को मिलता है कि खिलाड़ी अपना पसीना और यहां तक कि खून और आंसू पोंछकर तौलिया गेंद पकड़ने वाले बॉल ब्वायज और बॉल गर्ल्स के पास फेंक देते हैं। तो हो सकता है कि कोरोना के बाद आपको बॉल ब्वायज और बॉल गर्ल्स टेनिस में न देखने को मिले या फिर देखने को भी मिलें तो बॉल ब्वायज’ और बॉल गर्ल्स’ ने दस्ताने पहने हों।

दुनिया भर में खेल गतिविधियां ठप्प पड़ने से पहले शीर्ष फुटबॉल लीग में मैच से पहले हाथ मिलाने का चलन बंद कर दिया गया था। प्रीमियर लीग की टीम लिवरपूल ने मैच से पहले खिलाड़ियों के साथ बच्चों के मैदान पर जाने पर भी रोक लगा दी थी जबकि साउथम्पटन ने खिलाड़ियों को आटोग्राफ देने या सेल्फी लेने से बचने के लिये कहा था।

फुटबॉलर से अलावा एनबीए ने खिलाड़ियों से एक दूसरे के हाथों से ताली बजाने के बजाय हवा में मुक्का लहराने को कहा था। वहीं साउथ अफ्रीका और न्यूजीलैंड के बीच खाली स्टेडियम में खेले गए मुकाबले में खिलाड़ियों ने कोहनियों मिलाकर विकेट का जश्न मनाया था। साथ ही मैच खत्म हो जाने के बाद दोनों टीमों ने एक दूसरे से हाथ भी नहीं मिलाया था।

पसीने का क्या करेंगे खिलाड़ी

चलिए मान लिया कि खेलों में आप हाई-फाइव बंद कर सकते हैं। गेंद पर लार लगाना बंद कर सकते हैं। हाथ मिलाना बांद कर सकते हैं, लेकिन पसीने का क्या करेंगे। पसीना तो हर खिलाड़ी का निकलता है। चाहे वो फुटबॉलर हो, क्रिकेटर हो या फिर बास्केटबॉल प्लेयर हो और कई खेल तो ऐसे हैं जिनमें Body Contact होता ही है। जैसे रेसलिंग, जूडो, कबड्डी उन खेलों में क्या किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

नेपाल में उठा सियासी तूफान, चालबाज चीन ने राष्ट्रपति भवन को भी जाल में फंसाया

नई दिल्ली। चालबाज चीन ने नेपाल के राष्ट्रपति भवन को भी अपने जाल में फंसा लिया है। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग चाहते हैं...

सपना चौधरी ने इस गाने पर डांस से जीता फैंस का दिल, पागल हो गए लोग, देखें वीडियो

नई दिल्लीः हरियाणवी सिंगर (Haryanvi Dancer) और डांसर सपना चौधरी (Sapna Chaudhary) की पहचान किसी बॉलीवुड सिलेब्स से कम नहीं है। वो जब मंच...

लॉकडाउन में बुक कराए गये टिकटों का रिफंड नहीं दे रहीं एयरलाइंस, सुप्रीम कोर्ट ने जारी किया नोटिस

नई दिल्ली। कोरोना लॉकडाउन के दौरान बुक किए गये हवाई टिकटों की वापसी में एयर लाइन हीलाहवाली कर रही हैं। यात्रियों पर जबरन क्रेडिट...

शाओमी के इस स्मार्टफोन में आए धमाकेदार फीचर्स, जानिए खासियत

नई दिल्लीः गैजेट्स कंपनी (Gadgets Company) अपने यूजर्स को खुश रखने के लिए नए-नए फीचर्स की लॉन्चिंग करती रहती हैं, जिन्हें ग्राहकों का रिस्पॉन्स...