जिम्बाब्वे: तख्तापलट की आशंका, सड़कों पर उतरे टैंक

नई दिल्ली (15 नवंबर): दुनिया में जहां पर भी ऑर्मी ने देश की व्यवस्था को अपने हाथों में लिया है, वहां के हालात अच्छे नहीं रहे हैं। ऐसी ही कुछ खबर जिम्बाब्वे से आ रही है, जहां पर प्रेसिडेंट रॉबर्ट मुगाबे के तख्तापलट की आशंका की जताई जा रही है।

जिम्बाब्वे के सरकारी चैनल पर देश पर सेना के कब्जे की खबर चलाई जा रही है। चैनल पर कहा गया कि राजधानी हरारे में गोलीबारी और धमाकों की आवाज सुनी गई। शहर में हर तरफ सेना और आर्मी टैंक नजर आ रहे हैं। चश्मदीदों के मुताबिक, प्रेसिडेंट रॉबर्ट मुगाबे के रेसिडेंट के पास भी फायरिंग की आवाज सुनी गई।

हालांकि, सेना ने तख्तापलट की खबरों को खारिज कर दिया है। सेना का कहना है कि प्रेसिडेंट रॉबर्ट मुगाबे बिल्कुल सुरक्षित हैं और ये कार्रवाई क्रिमिनल्स को टारगेट करने के लिए की गई है। बता दें कि मुगाबे की पार्टी ने सेना प्रमुख जनरल कान्सटैनटिनो चिवेंगा पर बीते हफ्ते राजद्रोह का आरोप लगाया था, जिसके बाद से दोनों के बीच तनाव बढ़ गया है।

इस पूरे घटनाक्रम पर अभी तक मुगाबे की तरफ से कोई बयान नहीं आया है। सेना ने स्टेटमेंट में उन लोगों के नाम साफ नहीं किए, जिन्हें निशाना बनाया जा रहा है। न्यूज एजेंसी रॉयटर्स ने सरकार के सूत्रों के हवाले से बताया है कि हिरासत में लिए गए लोगों ने फाइनेंस मिनिस्टर इग्नाटिअस कोम्बो शामिल हैं। अभी ये साफ नहीं हो पाया है कि देश में इस मिलिट्री एक्शन को किसने लीड किया है।