Inside Story : क्यों है जाकिर नाइक का IRF रडार पर?

नई दिल्ली (8 अगस्त): इस्लाम के विवादित प्रचारक जाकिर नाइक पर धीरे-धीरे शिकंजा कसता जा रहा है। खबर है कि जाकिर नाइक की संस्था इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन (IRF) पर प्रतिबंध लग सकता है। कानून मंत्रालय ने 2005 और 2012 में जाकिर नाईक पर दर्ज FIR को आधार बनाकर गृह मंत्रालय को सिफारिश भेजी है। जाकिर के फाउंडेशन IRF पर आतंकवाद को बढ़ावा देने और लोगों का धर्मान्तरण करने का आरोप है। इस संस्था को दिए जा रहे विदेशी चंदे की भी जांच की जा रही है। गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इस मामले पर कार्रवाई के लिए गृह मंत्रालय से विस्तृत विचार-विमर्श हो चुका है। अवैध घोषित होने के बाद इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन पर 5 साल तक रोक लग जाएगी। उधर, डॉ नाइक के मीडिया सलाहकार आरिफ मलिक ने कहा कि प्रतिबंध के संबंध में सरकार या एजेंसी से कोई नोटिस नहीं भेजा गया है।

IRF को गैरकानूनी घोषित करने के लिए कानून मंत्रालय ने की सिफारिश- गृह मंत्रालय ने जाकिर की संस्था को गैर कानूनी घोषित करने के लिए कानून मंत्रालय से सलाह मांगी थी। जिस पर कानून मंत्रालय ने गृह मंत्रालय को सिफारिश भेजी। 1991 से जाकिर नाइक का संगठन इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन काम कर रहा है। संगठन पर धर्मांतरण कराने और आईएसआईएस के लिए लोगों को भेजने जैसे गंभीर आरोप भी लग चुके हैं। 

बैन कम से कम 5 साल के लिए लगेगा- अवैध घोषित होने के बाद इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन पर 5 साल तक रोक लग जाएगी। संगठन पर बैन लगने के बाद कोई भी व्यक्ति इसका सदस्य नहीं बन सकता है। अगर बनता है तो वह कानूनी कार्रवाई का भागी बनेगा। बैन के बाद संगठन कहीं से चंदा भी नहीं ले सकेगा और ना कोई व्यक्ति संगठन को चंदा दे सकेगा।

15 जुलाई को स्काइप के जरिए प्रेस कॉन्फ्रेंस कर दी थी सफाई- मुस्लिम धर्मगुरु जाकिर नाइक ने सउदी अरब के मदीना शहर से स्काइप के जरिए प्रेस कॉन्फ्रेंस कर खुद को शांति का मैसेंजर बताया था। क्या कहा था जाकिर नाइक ने... - मैं हूं शांति दूत, मैंने कभी किसी को आतंक के लिए प्रेरित नहीं किया। - युद्ध में आत्‍मघाती हमला सही है, आत्‍मघाती हमला इस्‍लाम में हराम है। - भारत में मुस्लिमों के आंकड़ें मुझे पता नहीं। - बेकसूरों की हत्‍या इस्‍लाम में नाजायज है। - जान बचाने के लिए शराब पीना भी गलत नहीं। - फ्रांस में हुए हमले की मैं निंदा करता हूं. दुनिया में हर आतंकी हमले की मैं निंदा करता हूं। - पीस टीवी कानूनी सैटेलाइट चैनल है, मुस्लिम चैनल के कारण प्रसारण की इजाजत नहीं दी गई। - मैं हर तरह की जांच के लिए तैयार हूं, पुलिस ने अब तक मुझे किसी पूछताछ के लिए नहीं बुलाया।

भारत लौटने का प्लान नहीं - पहले खबर आई थी जाकिर नाइक 11 जुलाई को भारत लौटेगा, 12 जुलाई को मुंबई में प्रेस कॉन्फ्रेंस करेगा, लेकिन जाकिर आया और ना ही हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस। - 15 जुलाई को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान जाकिर नाइक ने साफ कर दिया कि उसका इस साल भारत लौटने का कोई प्लान नहीं है। - माना जा रहा है कि कानूनी कार्रवाई के डर से जाकिर नाइक भारत नहीं आना चाहता। - केंद्र सरकार, महाराष्ट्र पुलिस और सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसियां नाइक के खिलाफ जांच कर रही है।

कौन हैं जाकिर नाइक...

- जाकिर का जन्म मुंबई में 18 अक्टूबर 1965 को हुआ था। - जाकिर नाइक एक मुस्लिम धर्मगुरु, राइटर और स्पीकर हैं। - इसके अलावा वो इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन या आईआरएस के फाउंडर और प्रेसिडेंट हैं। - फेसबुक पर उनके 1 करोड़ 14 लाख फॉलोअर हैं। नाइक पर यूके, कनाडा, मलेशिया समेत 5 देशों में बैन है। - उनके इस्लामिक फाउंडेशन को भारत और विदेशों से जकात के तौर पर भरपूर डोनेशन मिलता है।  - वे एक स्कूल भी चलाते हैं जिसमें लेक्चर, ट्रेनिंग, हाफिज बनने की क्लास और इस्लामिक ओरिएंटेशन प्रोग्राम होते हैं। - पुलिस की परमिशन न मिलने के कारण 2012 से मुंबई में नाइक की कोई पीस कॉन्फ्रेंस नहीं हुई। - जाकिर के पिता अब्दुल करीम नाइक कोंकण के रत्नागिरी करीब 60-70 साल पहले मुंबई में शिफ्ट हो गए थे। - नाइक ने मुंबई के केजी कॉलेज से पढ़ाई की है। बाद में मुंबई के टोपीवाला मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस किया।  - एमबीबीएस के आखिरी साल की पढ़ाई के दौरान नाइक ने साउथ अफ्रीका के प्रीचर अहमद दीदत का लेक्चर सुना।  - दीदत इंग्लिश में बोलते थे और कोट-पैंट पहनने के साथ मुस्लिम टोपी भी लगाते थे। - दीदत को सुनने के बाद नाइक ने तय किया कि वे ज्यादा वक्त तक डॉक्टर की प्रैक्टिस नहीं करेंगे, प्रीचर बनेंगे।

इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन(IRF) और पीस टीवी क्या है...

- जाकिर नाइक ने 1991 में इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन यानी IRF की स्थापना की। - मुंबई के डोंगरी में इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन का मुख्यालय है। - डोंगरी की एक पुरानी सी बिल्डिंग के तीन कमरों में चलता है IRF का सेंटर।  - वहीं से जाकिर ने दवाह यानी धार्मिक प्रवचन देना शुरू किया। - IRF का मकसद गैर मुस्लिमों को इस्लाम का सही मतलब समझाना। - नाइक का वर्चस्व भारत में बाबरी मस्जिद गिरने के बाद बढ़ना शुरू हुआ। - वो खुद दुनिया भर में घूमकर कुरान और इस्लाम पर लेक्चर देने लगा। - नाइक का दावा है पिछले 20 सालों में 30 से ज्यादा देशों में 2000 से ज्यादा सभाएं कर चुका है। - अपनी बात ज्यादा लोगों तक पहुंचाने के लिए उसने पीस टीवी नाम से एक इस्लामी चैनल भी शुरू किया। - इसका अंग्रेजी चैनल 2006 में, उर्दू चैनल 2009 में तथा बांग्ला चैनल 2011 में शुरू हुआ - इन चैनलों का दावा है कि इसके 200 देशों में करोड़ों दर्शक हैं।

जाकिर का आतंकियों से क्या है कनेक्शन...

- नाइक पर आरोप लगा कि ढाका हमले में मारे गए 6 में से दो आतंकी निब्रास और इम्तियाज जाकिर से इन्स्पायर थे।  - दोनों नाइक के भाषण सुनते थे, इम्तियाज ने पिछले साल जाकिर की एक स्पीच को फेसबुक पर शेयर भी किया था। - ढाका हमले के बाद ही सुरक्षा एजेंसियों ने नाइक की स्पीच के कंटेंट को खंगालना शुरू कर दिया था। - हालांकि संसद में सरकार कह चुकी है कि जाकिर के आतंकी कनेक्शन के सबूत नहीं मिले। - लेकिन ऐसा आरोप लगा है कि 55 आतंकी जाकिर के भाषणों से प्रेरित रहे हैं।

जाकिर के 10 विवादित बयान...

- इस्लामी देशों में गैर-मुस्लिमों के लिए धार्मिक स्थल बनाने की इजाजत नहीं दी जानी चाहिए। - मुस्लिमों को अपनी महिला गुलामों के साथ सेक्स का पूरा अधिकार है। - टेनिस स्टार सानिया मिर्जा के कपड़ों पर की थी टिप्पणी, खेलते समय पूरे कपड़े पहने। - लड़कियों को लड़कों के स्कूलों में नहीं भेजा जाना चाहिए। - महिलाओं को सोने के गहने पहनने की इजाजत नहीं दी जानी चाहिए। - पश्चिम के देश महिलाओं की आजादी के नाम पर अपनी मां-बेटियों को बेच रहे हैं। - मुस्लिम जगत में पत्नियों की पिटाई बुरी बात नहीं है।  - जाकिर के मुताबिक विवाहेतर संबंध के मामले में पत्थर बरसाकर मौत की नींद सुला देना सही है। - जाकिर के मुताबिक समलैंगिकों को मार देना चाहिए। - दुनिया के सबसे बड़े आतंकी ओसामा बिन लादेन की कभी आलोचना नहीं की थी।