जाकिर के रिसर्च फाउंडेशन पर प्रतिबंध लगाने की तैयारी में मोदी सरकार

नई दिल्ली (8 अगस्त): विवादित इस्लामिक धर्मगुरु डॉ. जाकिर नाइक के रिसर्च फाउंडेशन (आईआरएफ) पर खतरे के बादल मडरा रहे हैं। मोदी सरकार इस फाउंडेशन पर प्रतिबंध लगाने की तैयारी में है। विधि मंत्रालय ने गृह मंत्रालय से कहा है कि 1991 में स्थापित इस फाउंडेशन को अवैध घोषित किया जा सकता है।

कानून मंत्रालय ने जाकिर के इस फाउंडेशन पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। बता दें कि जाकिर के फाउंडेशन पर आतंकवाद को बढ़ावा देने और लोगों का धर्मान्तरण करने का आरोप है। इस संस्था को दिए जा रहे विदेशी चंदे की भी जांच की जा रही है।

जाकिर के लिए सोशल मीडिया पर फैन ग्रुप चलाने वाले मोहसिन बताते हैं कि आईआरएफ के खाते से 50 लोगों को सैलरी मिलती है। जाकिर नाइक के अलावा उनके भाई मोहम्मद नाइक और पत्नी फरहत नाइक भी फाउंडेशन में शामिल हैं। पत्नी फरहत महिलाओं को इस्लाम पढ़ाती हैं।

डोंगरी में इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन मुख्य सड़क पर एक पुरानी सी बिल्डिंग के तीन कमरों में चलता है। ऊपर अंग्रेजी में इस्लाम पढ़ाने वाली क्लास का बोर्ड लगा है।