ज़ाकिर नहीं आया देश तो प्रत्यर्पण की मांग कर सकती है सरकार

नई दिल्ली (9 अगस्त): विवादित इस्लामिक धर्मगुरु जाकिर नाइक पर महाराष्ट्र सरकार शिकंजा कसने की पूरी तैयारी में है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि अगर जाकिर नाइक विदेश से खुद नहीं लौटा तो सरकार उसके प्रत्यर्पण की मांग करेगी।

देश की 9 एजेंसियां ज़ाकिर नाइक के भाषणों की और उनकी संस्था IRF के फंड्स की जांच में जुटी हैं, वही दूसरी ओर मुंबई पुलिस ने ज़ाकिर नाइक पर 71 पन्नों की रिपोर्ट सीएम को सौंप दी है। मराठी में तैयार की गई इस रिपोर्ट में 2 पेज में समरी और 19 पन्नों में ऑब्ज़र्वेशन है।

रिपोर्ट में लिखा है...

- ज़ाकिर नायक का भाषण दो धर्मों के बीच भेद भाव पैदा करता है। - ज़ाकिर नायक लोगों को धर्म परिवर्तन के लिए उकसाता है। - ज़ाकिर इस्लाम को सभी धर्मों से महान बताता है। - इस्लाम को सबसे ऊपर और अच्छा बताना आतंकवाद को इनडायरेक्टली उकसाना है। - अलग-अलग संदर्भ का हवाला देकर आतंक का भी समर्थन करते हैं।

एक तरफ रिपोर्ट के बाद राज्य के कानून और विधि मंत्रालय से राय मांगी गई है कि क्या डॉ ज़ाकिर नाइक के खिलाफ UAPA के तहत मामला बनता है। दूसरी तरफ सीएम फड़वीस ने कहा कि अगर ज़ाकिर भारत नहीं आता है तो उसे प्रत्यर्पण का दबाव बनाया जाएगा।