अपनी वापसी को लेकर युवराज ने दिया बड़ा बयान

नई दिल्ली(30 दिसंबर): टीम इंइिया की 2007 टी20 वर्ल्ड कप और 2011 वर्ल्ड कप जीत में अहम भूमिका निभाने वाले ऑलराउंडर युवराज सिंह का बड़ा बयान सामने आया है।

- युवराज ने कहा कि मेरे अंदर अभी काफी क्रिकेट बाकी है और मुझे भारतीय टीम में वापसी की पूरी उम्मीद है। उन्होंने कहा कि मैं काफी मेहनत कर रहा हूं, मुझे लगता है कि मैं टीम को अभी काफी कुछ दे सकता हूं। मैं वो सब कर रहा हूं जिसके लिए चयनकर्ता मुझे टीम में बुलाने पर मजबूर हो जाएं। मुझे अभी भी लगता है कि मेरे अंदर अभी भी कुछ सालों की क्रिकेट बाकी है और मैं एक बार फिर से भारत के लिए मैच जीतना चाहता हूं।

- पिछले वर्ष रणजी ट्रॉफी में युवराज सिंह ने 84 की औसत से 5 मैचों में 672 रन बनाए थे, जिसमें उनके प्रथम श्रेणी क्रिकेट का सर्वश्रेष्ठ स्कोर 260 रन शामिल था। अपने सत्र के बारे में बात करते हुए युवराज ने कहा कि वह अपने प्रदर्शन से काफी संतुष्ट हैं। उन्होंने मध्य प्रदेश के खिलाफ 177 और 76 रन की पारी खेली, जिसके बाद उन्हें एहसास हुआ कि उनके खेल में कोई खामी नहीं हैं। युवराज ने कहा, 'मेरा काम मैदान पर रहना और रन बनाना है। लाहली में मध्यप्रदेश के खिलाफ खेली पारी मुझे पसंद हैं, जहां मैंने चुनौतीपूर्ण पिच पर रन बनाए। मैंने मैदान के चारो ओर रन बनाए जो सुखद एहसास था। इससे मुझे समझ आया कि मेरे खेल में कोई खराबी नहीं है।

-साथ ही उन्होंने भारतीय टीम के टेस्ट मैच के कप्तान विराट कोहली की तारीफों के पुल बांधते हुए कहा कि भारतीय टीम को टेस्ट में नंबर वन बनाने में उनका अहम रोल रहा। भारतीय टीम की सफलता का श्रेय विराट कोहली को जाता है जिन्होंने टीम का नेतृत्व शानदार तरीके से किया है। साथ ही भारतीय टीम के शानदार प्रदर्शन के पीछे पूरी प्रक्रिया का भी बहुत बड़ा हाथ है। युवराज ने कहा कि पिछले कुछ सालों में राहुल द्रविड़ की मौजूदगी में अंडर 19 की टीम से बेहतरीन खिलाड़ी उभर कर सामने आए हैं, जिससे राष्ट्रीय टीम को फायदा पहुंचा है।