Blog single photo

क्रिकेट के 'युवराज' का संन्यास, जानिए उनके 10 अनसुने किस्से

भारतीय क्रिकेटर युवराज सिंह ने आज भारतीय क्रिकेट के तीनों प्रारूपो से संन्यास ले लिया। उन्होंने सन्यास का ऐलान करते हुए कहा कि अब आगे बढ़ने का समय आ गया हैं। आपको युवराज सिंह के 10 अनसुने किस्से बताते हैं।

Yuvraj Singh

Image Credit: Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (10 जून): भारतीय क्रिकेटर युवराज सिंह ने आज भारतीय क्रिकेट के तीनों प्रारूपो से संन्यास ले लिया। उन्होंने सन्यास का ऐलान करते हुए कहा कि अब आगे बढ़ने का समय आ गया हैं। आपको युवराज सिंह के 10 अनसुने किस्से बताते हैं।

1. युवराज सिंह का जन्‍म 12 दिसंबर 1981 को चंडीगढ़ शहर में हुआ था। आपको यहल जानकर हैरानी होगी कि उनके पिता योगराज सिंह भी भारतीय टीम के लिए खेल चुके हैं। योगराज ने तेज गेंदबाज की हैसियत से भारतीय टीम के लिए एक टेस्‍ट मैच और छह वनडे मैच खेले थे।

2. युवराज को बचपन में रोलर स्‍केटिंग का काफी शौक था। इस खेल में नन्‍हे युवराज ने कई ट्रॉफियां भी जीती थी लेकिन उनके पिता योगराज को युवराज को क्रिकेटर बनाने से कम कुछ भी मंजूर नहीं था। उन्‍होंने बेहद कड़ाई से युवराज को इस खेल में करियर बनाने के लिए प्रेरित किया।3. योगराज ने युवराज सिंह के बल्‍लेबाजी के अभ्‍यास के लिए घर में ही पिच बनाई थी, इस पर वे घंटों युवराज सिंह को बल्‍लेबाजी का अभ्‍यास कराते थे। युवराज की ट्रेनिंग को लेकर वे बेहद सख्‍त थे। बचपन में युवी को अपने पिता की यह सख्‍ती पसंद नहीं आती थी लेकिन आज युवराज मानते हैं कि पिता की सख्‍त ट्रेनिंग के कारण ही उन्‍हें क्रिकेट में ऊंचाई छूने में मदद मिली।4. युवराज ने बचपन में एक पंजाबी फिल्‍म में भी काम किया था। उन्‍होंने पंजाबी फिल्म 'मेहंदी शगना दी' में काम किया था। इस फिल्म में युवी के पिता और पूर्व क्रिकेटर योगराज सिंह भी थे। आपको बता दें कि युवराज के पिता भी कई हिंदी और पंजाबी फिल्‍मों के काम कर चुके हैं। योगराज ने उड़न सिख मिल्‍खा सिंह के जीवन पर बनी हिंदी फिल्‍म 'भाग मिल्‍खा भाग' में मुख्य भूमिका में भी दिखे थे।5. युवराज सिंह जूनियर वर्ल्‍डकप में चैंपियन बनने वाली भारतीय टीम का हिस्‍सा भी रहे हैं। वर्ष 2000 में मोहम्‍मद कैफ की कप्‍तानी में भारतीय टीम ने अंडर 19 वर्ल्‍डकप जीता था, इस टीम में युवराज सिंह भी शामिल थे। यही नहीं, भारतीय टीम के अहम मैचों में उन्‍होंने कई शानदार पारियां भी खेली थीं।6. युवराज ने सीनियर लेवल पर अपने इंटरनेशनल करियर का आगाज अक्‍टूबर 2000 में नैरोबी में केन्‍या के खिलाफ वनडे मैच खेलकर किया था। अपना पहला टेस्‍ट मैच उन्‍होंने अक्‍टूबर 2003 में अपने होमग्राउंड मोहाली में न्‍यूजीलैंड के खिलाफ खेला था।7. युवराज वर्ष 2007 में टी20 वर्ल्‍डकप और 2011 में वर्ल्‍डकप (50 ओवर) जीतने वाली भारतीय टीम के सदस्‍य रहे हैं। इन दोनों ही टूर्नामेंट में उन्‍होंने बेहतरीन प्रदर्शन किया था। जहां 2007 के टी20 वर्ल्‍डकप में इंग्‍लैंड के खिलाफ मैच के दौरान उन्‍होंने स्‍टुअर्ट ब्रॉड के ओवर में छह छक्‍के जडकर इतिहास रचा था, वहीं 2011 के वर्ल्‍डकप में भी उन्‍होंने गेंद और बल्‍ले से धमाल किया था।

8. वर्ल्‍डकप 2011 के दौरान युवराज पूरी तरह स्‍वस्‍थ नहीं थे। भारतीय क्रिकेटप्रेमी उस समय गहरी निराशा में घिर गए थे जब जांच के दौरान उन्‍हें फेफड़े में ट्यूमर होने का खुलासा हुआ। युवी को कैंसर होने का पता लगते ही क्रिकट प्रेमी उनके शीघ्र स्‍वास्‍थ्‍य लाभ की कामना कर रहे थे।9. युवराज सिंह  का विवाह हिंदी फिल्‍मों में काम करने वाली हेजल कीच से हुआ है। नवंबर 2015 को युवराज और हेजल की सगाई हुई थी। इसके बाद साल 2016 में इन दोनो ने शादी कर ली थी।10. मैदान में अपने बल्‍ले से भारतीय क्रिकेटप्रेमियों का भरपूर मनोरंजन करने वाले युवराज सिंह चैरिटी वर्क से भी जुड़े हैं। उनके चैरिटी फाउंडेशन का नाम 'यूवी केन' है, यह संस्थान आर्थिक रूप से अक्षम कैंसर पीड़ि‍तों के इलाज में मदद करने के काम में जुटा है।

Tags :

NEXT STORY
Top