कश्‍मीर: पीएम मोदी की अपील का असर, फौजी बनना चाहते हैं हजारों युवा

जम्मू(4 अप्रैल): जम्मू कश्मीर में सेना में भर्ती होने के लिए 19 हजार से ज्यादा युवाओं ने आवेदन किया है। इनमें से 3 हजार युवाओं ने बारामूला में भर्ती प्रक्रिया में भाग लिया।



-बता दें दो दिन पहले ही जम्‍मू-कश्‍मीर के ऊधमपुर में एशिया की सबसे लंबी सुरंग के उद्घाटन समारोह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घाटी के युवाओं से विकास की मुख्‍य धारा में जुड़ने की अपील की थी।


-  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां के युवाओं से कहा था कि अब उन्‍हें ये तय करना है कि वो घाटी में टूरिज्‍म चाहते हैं या फिर टेररिज्‍म। मोदी ने कश्‍मीरी युवाओं से अपील की थी कि वो पत्‍थरबाजी छोड़कर देश के विकास में अपनी भूमिका निभाए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इस अपील का असर महज दो दिन में ही घाटी में दिखने लगा।


- 22 साल के गुलाम गौस कहते हैं कि हम हर रोज आतंकवाद से जूझते हैं। आतंकवादियों ने हमारी जिदंगी तबाह कर दी है। हमे इससे छुटकारा चाहिए।


- अनंतनाग के रहने वाले अमजद हुसैन का कहना है कि हमारे इलाके में कुछ अलगाववादी नेता युवाओं को भड़काते हैं उन्‍हें इस बात के लिए पैसा देते हैं कि वो सुरक्षाबलों पर पथराव करें। इन लोगों ने उनका माइंड वॉश किया है। आर्मी की इस रैली में आए कई युवाओं ने बताया कि उन्‍हें हर रोज ऐसे लोग संपर्क करते हैं जो कहते हैं कि कश्‍मीर पाकिस्‍तान का हिस्‍सा है। हमें इसे आजाद करना है। इस तरह की बातें करके वो हम लोगों के भीतर हिंदुस्‍तान के खिलाफ ही नफरत का बीज बोने की कोशिश करते हैं। हर जगह हर तरफ नफरत फैलाने की कोशिश की जा रही है। इस रैली में फौजी बनने की चाहत लिए आए युवकों ने कहा कि इस तरह के लोगों की तादाद बहुत कम है लेकिन, बदनामी पूरे कश्‍मीर की होती है।