योगी राज में भी खुल्लम-खुल्ला रिश्वत लेता है ये दारोगा

धर्मेंद्र, प्रतापगढ़ (5 मई): यूपी के प्रतापगढ़ में वर्दीवाले का खूसकांड उस वक्त दुनिया के सामने आ गया, जब वो नोट लेते हुए कैमरे में कैद हो गया। इसने एक हजार रुपए की रिश्वत ली। तब जाकर बाइक छोड़ी। जब ये दारोगा घूस वाला नोट ले रहा था, उसी वक्त कैमरे में कैद हो गया।


प्रतापगढ़ की चौकी में तैनात दारोगा का नाम हरनंदन ओझा है। इस वर्दीवाले पर शहर की कानून व्यवस्था दुरुस्त करने की जिम्मेदारी है, लेकिन ये लोगों से खुलेआम घुस लेता है। गुरुवार को ये घूसखोर दारोगा वाहन चेकिंग कर रहा था। तभी इसने एक बाइक सवार को पकड़ लिया। शख्स ने बाइक छोड़ने की गुजारिश की तो इस दारोगा ने साफ-साफ कह दिया कि एक हजार दो और बाइक ले जाओ।


घूसखोर दारोगा की चंगुल में फंस चुके शख्स ने मुसीबत से बचने के लिए पहले 500 रुपए दिए, लेकिन ये रिश्वतखोर 1 हजार से कम में बाइक छोड़ने के लिए तैयार नहीं था। पुलिसवाला पांच सौ में नहीं माना दो शख्स ने 100 रुपए और देने की कोशिश की, इसपर दारोगा हरनंदन ओझा ने उसे आखिरी फैसला सुना दिया। घूसघोर दारोगा ने बाइक तभी छोड़ी जब उसे 1 हजार का चढ़ावा मिल गया।


साफ है कि यूपी में सत्ता भले ही बदल गई हो, लेकिन पुलिसवाले जस के तस हैं। सीएम योगी खाकी को सुधारना चाहते हैं। लेकिन हरनंदन जैसे पुलिसवालों को घूस की ऐसी लत लगी है कि छूटने का नाम नहीं ले रही है।