जब खुली इस लेडी एसआई की पोल तो मुंह छुपाने को हुई मजबूर

मेरठ (14 जून): योगी सरकार में ना तो अपराधियों को कोई डर है और ना ही पुलिसवाले अपनी हरकतों से बाज आ रहे हैं। अब खबर मेरठ से आई है, जहां पर एंटी करप्शन टीम ने लेडी एसआई को 20 हजार रुपए र‍िश्वत लेते ग‍िरफ्तार क‍िया।

लेडी एसआई का नाम अमृता यादव है। वर्तमान में वह मेरठ शहर कोतवाली में तैनात थी। जानकारी के अनुसार, अना मजहर नाम की एक महिला ने अपने पति और उसके परिजनों के खिलाफ दहेज उत्पीड़न का केस दर्ज कराया था। इस केस में धारा 377 और 376 भी लगाई गई थी।

इसकी जांच एसआई अमृता यादव कर रही थी। आरोप है कि उसने महिला के पति समीर से धारा 377 और 376 हटाने के नाम पर एक लाख रुपए की डिमांड की थी। समीर ने इसकी शिकायत एंटी करप्शन के सीओ सुरेश कुमार से की। जांच-पड़ताल के बाद एंटी करप्शन की टीम ने रिश्वत मांगने वाली सब इंस्पेक्टर को रंगे हाथों पकड़ने की योजना बनाई। टीम में इंस्पेक्टर रणवीर सिंह खोखर, उदयवीर सिंह, जेके तोमर आदि को शामिल किया गया।

इसके बाद शिकायतकर्ता केमिकल से रंगे 2 हजार के 10 नोट एंटी करप्शन टीम से लेकर बुढ़ाना गेट पुलिस चौकी पर पहुंचा। वहां पहुंची अमृता यादव ने जैसे ही 20 हजार रुपए की रिश्वत समीर से ली, एंटी करप्शन की टीम ने अरेस्ट कर ल‍िया।