UP बजट: योगी सरकार ने बंद की अखिलेश सरकार की कई योजना

लखनऊ (11 जुलाई): योगी सरकार ने आज उत्तर प्रदेश विधानसभा में अपना पहला बजट पेश किया। योगी सरकार ने अपने पहले बजट में समाजवादी पेंशन योजना, कन्या विद्या धन योजना, लैपटॉप योजना, यश भारती योजना, समाजवादी स्वास्थ्य बीमा योजना, आई स्पर्श योजना, लोहिया समग्र ग्राम योजना आदि को बंद करने का ऐलान किया। 


बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल ने कहा कि उनकी सरकार की पहली प्राथमिकता प्रदेश में गरीबी को खत्म करने की है। उन्होंने कहा कि यह बजट सर्वजन हिताय व सर्वजन सुखाए के लिए है। हमारा बजट समाज के सबसे निचले तबके को केंद्र में रख कर बनाया गया है।


योगी सरकार का पहला बजट 3 लाख 84 हजार करोड़ रुपये का है। इसमें किसानों की कर्ज माफी के 36 हजार करोड़ रुपये का प्रवधान किया गया है। ये बजट पिछले बजट से 10.9 फीसदी है। वहीं अनुमानित राजकोषीय घाटा 2017-18 में 42967,86 करोड़ का अनुमानित है।


यूपी बजट की बड़ी बातें...

- 2017-18 के लिए राजस्व प्राप्ति 3 लाख 77 हजार करोड़ होने का अनुमान

- किसानों की कर्ज माफी के लिए 36000 करोड़ रुपए की व्यवस्था बजट में की गई है

- 42 हजार 967 करोड़ राजकोषीय घाटे का अनुमान

- 10 प्रतिशत की विकास दर प्राप्त करना हमारा लक्ष्य

- संपर्क मार्गों के निर्माण के लिए 200 करोड़ का बजट

- सोलर पंप योजना के लिए 125 करोड़ रुपए की व्यवस्था

- 2017-18 में 12 हजार 278 करोड़ रुपए की बचत का अनुमान

- रामायण सर्किट,बौद्ध सर्किट,कृष्ण सर्किट के लिए 1240 करोड़

- परमवीर चक्र विजेताओं की स्कूलों में लगेगी फोटो

- प्रदेश में 33200 पुलिसकर्मियों की भर्ती की जाएगी

- यूपी खनन नीति 2017 लागू की गई

- सरकार जल्द लाएगी टेक्सटाइल नीति

- कौशल विकास को बढ़ावा देना भी बजट में शामिल है

- चित्रकूट में परिक्रमा पथ का विकास किया जाएगा

- प्रमुख तीर्थस्थलों को चार लेन की सड़क से जोड़ा जाएगा

- आगरा एयरपोर्ट का विकास एवं उच्चीकरण किया जाएगा

- हेलिकॉप्टर सेवा का भी विकास किया जाएगा

- गन्ना किसानों की उपज को बाजार तक पहुंचाएगी यूपी सरकार