अयोध्या में आज जलेंगे 2 लाख दिए, योगी सरकार बनाएगी विश्व रिकाॅर्ड

नई दिल्ली (18 अक्टूबर): उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अयोध्या में आज 'त्रेता युग' जैसी दिवाली मनाएंगे। सीएम योगी के लिए यह दिवाली खास हैं। साथ ही अयोध्यावासियों के लिए भी छोटी दिवाली विशेष है। यूपी के मुख्यमंत्री राम की जन्मस्थली में ही दिवाली मनाएंगे। माना जा रहा है कि योगी त्रेता युग के उसी वैभव को अलग तरह से दोहराने जा रहे हैं।

योगी आदित्यनाथ शाम 4 बजे फैजाबाद हवाई मार्ग से फैजाबाद पहुंचेंगे। इसके बाद वो सड़क मार्ग से अयोध्या के रामकथा पार्क पहुंचेंगे। इसी दौरान दूसरी तरफ साकेत से निकलकर शोभा यात्रा की रामलीला झाकियां भी पहुंचेंगी।

इस दौरान राम से जुड़े अलग-अलग काण्ड पर आधारित झाकियां अपने भव्य स्वरूप में दिखाई देंगी। ट्रकों पर बने मंच पर कुल 11 झाकियां होंगी, जिसके सामने लोक कलाकार संबंधित काण्ड से जुड़ी नृत्य नाटिका प्रस्तुत कर रहे होंगे। यह शोभायात्रा साकेत महाविद्यालय से दोपहर बाद 2 बजे निकलकर अयोध्या की सड़कों से गुजरती हुई लगभग 3 किलोमीटर के सफर के बाद शाम 4 बजे रामकथा पार्क पहुंचेगी। रास्ते में लोग इन शोभायात्राओं पर पुष्प वर्षा कर रहे होंगे और खुशियां मनाते हुए जयकारे लगा रहे होंगे।

रामकथा पार्क के बाद शाम 5.45 बजे योगी आदित्याथ सीधे सरयू तट पर जाएंगे। यहां सबसे पहले 15 मिनट तक सरयू तट का पूजन होगा। इसके बाद 5100 बत्तियों की महाआरती होगी। योगी आदित्यनाथ के लिए सरयू तट पर स्टेज बनाया गया है। महाआरती के दौरान 11 पुजारी वैदिक मंत्रोच्चार करेंगे।

सरयू तट की पूजा के बाद मुख्यमंत्री राम की पैड़ी पर जाएंगे। यहां दीपोत्सव का कार्यक्रम है, जहां करीब 2 लाख दीपों को प्रज्वलित किया जाएगा। इतनी संख्या में पहली बार दीप जलाए जाएंगे। पिछले साल यहां डेढ़ लाख के आसपास दीप प्रज्वलित किए गए थे। इसके साथ ही यहां आरती में 'ॐ जय सरयू माता' के जाप के साथ 11 वैदिक ब्राह्मण आरती चलने तक मंत्रोचार करेंगे।

-भगवान राम अपने भाई लक्ष्मण और पत्नी सीता के साथ फैजाबाद हवाई पट्टी से हेलिकॉप्टर में सवार होकर सीधे अयोध्या के रामकथा पार्क पहुंचेंगे। जहां खड़ाऊं लेकर योगी आदित्यनाथ और राज्यपाल रामनाइक उनकी अगवानी करेंगे। उसके बाद उनकी पूजा अर्चना होगी और बाकायदा रामदरबार लगेगा और उनका राज्याभिषेक किया जाएगा।

-अयोध्या का ये नजारा वैसा ही दिखाई देगा जैसे त्रेता युग में लंका विजय के बाद भगवान राम के पुष्पक विमान से अयोध्या पहुंचने पर हुआ था। इस सबको देखते हुए सुरक्षा की व्यापक व्यवस्था भी की गई है। सरयू में जल पुलिस की टुकड़ियां गश्त करती दिखाई देंगी तो सड़कों पर पुलिस और अर्धसैनिक बल के जवान गश्त करेंगे।