लखनऊ चिड़ियाघर का नाम बदल कर अटल बिहारी वाजपेयी प्राणि उद्यान कर सकती है योगी सरकार

                                                                    Photo: Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली ( 12 नवंबर ): उत्तर प्रदेश में लखनऊ के इकाना स्टेडियम का नाम बदलने के बाद योगी सरकार अब लखनऊ के चिड़िया घर का नाम बदल सकती है। लखनऊ जू का नाम नवाब वाजिद अली शाह की जगह अटल बिहारी वाजपेयी प्राणि उद्यान किए जाने पर विचार किया जा रहा है। ऐसा आगामी 25 दिसम्बर को अटल जयंती पर हो सकता है। 

लखनऊ चिड़ियाघर का नाम 2015 में अखिलेश सरकार ने बदला था। इसे अवध के अंतिम नवाब वाजिद अली शाह प्राणी उद्यान कहलाने की घोषणा की थी। अब यह तीसरा मौका होगा, जब लखनऊ चिड़ियाघर का नाम बदला जा रहा है। 

अटल जयंती पर हो सकता है नामकरण

लखनऊ की शान नवाब वाजिद अली शाह प्राणि उद्यान का नया नामकरण अटल जयंती पर हो सकता है। 25 दिसंबर को पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म दिवस है। सूत्रों की मानें तो योगी सरकार इसी दिन प्राणि उद्यान को नया नाम देगी।

 हर साल आते हैं करीब 13 लाख पर्यटक71 एकड़ में फैला यह प्राणि उद्यान राजधानी का जान व शान कहा जाता है। यहां हर साल करीब 13 लाख पर्यटक आते हैं। इस प्राणि उद्यान में 102 प्रजातियों के 911 पशु पक्षी निवास करते हैं।

 सपा सरकार ने अवध के नवाब के नाम किया था प्राणि उद्यान

लखनऊ प्राणि उद्यान की स्थापना वर्ष 1921 में की गई थी। इंग्लैण्ड के राजकुमार प्रिंस ऑफ वेल्स के लखनऊ आगमन के अवसर पर इसका नाम प्रिंस ऑफ वेल्स जूलोजिकल गार्डन रखा गया था। 4 जून 2001 को इसका नाम परिवर्तित कर लखनऊ प्राणि उद्यान किया गया। पूर्ववर्ती सपा सरकार ने 23 जून 2015 को लखनऊ प्राणी उद्यान (लखनऊ चिड़ियाघर) का नाम नवाब वाजिद अली शाह प्राणी उद्यान कर दिया था। शाह अवध के आखिरी नवाब थे। आजादी के बाद से यह पहली घटना थी जब किसी स्मारक का नाम अवध या अवध के नवाब के नाम पर रखा गया था।