कुंभ के दौरान प्रयागराज में नहीं होगी कोई शादी, जानें वजह


न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (2 दिसंबर): प्रयागराज में अगले साल होने वाले कुंभ के दौरान शादी करना मुश्किल होगा। प्रशान ने इस दौरान शहर के मैरेज गार्डन, गेस्ट हाउस और शादी घरों में बुकिंग पर रोक लगा दी है। ऐसे में जिनकी शादी पहले से तय है, उन्हें दूसरे शहरों की तरफ रुख करना पड़ेगा। जिला प्रशासन ने भीड़ और शहर में बड़े वाहनों की एंट्री पर प्रतिबंध को देखते हुए ये फैसला लिया है। योगी सरकार ने एक आदेश जारी करके प्रयागराज में कुंभ मेले के दौरान होने वाले प्रमुख स्‍नानों के मद्देनजर शादियों पर रोक लगा दी है। 


Image credit: Google


दरअसल उत्तर प्रदेश सरकार ने एक आदेश जारी करते हुए अगले साल जनवरी, फरवरी और मार्च में होने वाले कुंभ मेले के प्रमुख स्नानों के दौरान एक दिन पहले और एक दिन बाद शादियों पर पाबंदी लगा दी है। इस आदेश की कॉपी सभी मैरेज हॉल में भेजकर उस टाइम की सारी बुकिंग कैंसिल करने का आदेश जारी कर दिया गया है।



Image credit: Google


प्रयागराज में 2019 के कुंभ मेले के पांच प्रमुख स्नान पर्वों के दिन के आसपास न तो कोई सात फेरे लेगा और नहीं कोई निकाह पढ़ाया जाएगा। सरकार के इस आदेश के बाद जिनके घरों में शादी है, वे असमंजस में हैं। कोई डेट नहीं बदलना चाहता तो कोई सरकार के आदेश के बाद गेस्ट हाउस वालों से झगड़ा कर रहा है। गेस्ट हाउस मालिकों का भी लाखों का नुकसान इस बार की लगन में हो रहा है।  कुंभ मेला प्रयागराज में जनवरी से शुरू हो जाएगा। स्नान के आसपास की अवधि में सरकार ने एक सर्कुलर जारी करके सभी मैरेज हाल और होटलों को नोटिस भेजा है कि वे कुंभ के स्नान के ना तो एक दिन पहले कोई शादी की बुकिंग करें और ना ही स्नान के एक दिन बाद।

Image credit: Google


आपको बता दें कि कुंभ मेला प्रयागराज में जनवरी से शुरू हो जाएगा।  कुंभ में जनवरी महीने में मकर सक्रांति, और पौष पूर्णिमा स्नान है जबकि फरवरी में मौनी अमावस्या, बसंत पंचमी और माघी पूर्णिमा का स्नान है। जबकि मार्च के महीने में महाशिवरात्रि का स्नान होगा, जिसमें करोड़ों श्रद्धालु संगम में डुबकी लगाकर मोक्ष की कामना करेंगे। सरकार की ओर से शादियों पर ग्रहण लगाने के इस आदेश की कॉपियां सभी होटलों और मैरिज हॉल को भेज दी गई हैं। प्रयागराज शहर में सैकड़ों मैरिज हॉल और गेस्ट हाउस हैं और सभी मैरिज हॉल में बुकिंग पहले से की जा चुकी है। लोगों ने गेस्ट हाउस मालिकों को एडवांस में पैसे भी दे दिए हैं। लेकिन सरकारी फरमान के बाद सभी चिंतित हैं,हालांकि लोगों की परशानी को देखते हुए उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी ने शासन स्तर पर बात करके जल्द ही कोई रास्ता निकालने को कहा है।


ज्यादा जानकारी के लिए देखिए न्यूज 24 की ये रिपोर्ट...