योगगुरु फंसे सेक्शुअल हैरेसमेंट के केस में, अब देना होगा 503 करोड़ रुपए का मुआवजा

नई दिल्ली ( 4 जनवरी ): भारतीय मूल के हॉट योगगुरु बिक्रम चौधरी अपनी अरबों रुपए की प्रॉपर्टी हार गए हैं। लॉस एंजिलिस कोर्ट ने अपने एक फैसले में  कहा है कि बिक्रम को अपनी पूर्व वकील मीनाक्षी जाफा बोडेन को करीब 503 करोड़ रुपए का मुआवजा देना होगा।

कोर्ट के आदेश के बाद मीनाक्षी अब ‘बिक्रम योगा स्टूडियोज’ की 700 फ्रेंचाइजी की मालकिन बन गई हैं। इसके अलावा, मीनाक्षी को उसकी 43 लग्जरी कारें भी मिलेंगी।

मीनाक्षी ने बिक्रम पर किया था सेक्शुअल हैरेसमेंट का केस...

फिलहाल, बिक्रम अमेरिका से फरार है। उसकी लग्जरी कारों का भी पता नहीं है। मीनाक्षी ने एक इंटरव्यू में कहा, "अब मैं बिक्रम योगा की बॉस हूं। कोर्ट के ऑर्डर के बावजूद बिक्रम ने अपनी प्रॉपर्टी छिपा ली। वह अमेरिका से भाग चुका है। लेकिन मुझे विश्वास है कि न्याय होकर रहेगा।" "बिक्रम ने कोलकाता से अपने योग की शुरुआत की थी। वह अपने स्टूडेंट को योग सिखाने के लिए करीब 11.5 लाख रुपए चार्ज करता था।" "जैसे-जैसे बिक्रम का बिजनेस बढ़ा, उसका व्यवहार और नीयत भी बदलती गई। वह अब योगगुरु नहीं, बिजनेसमैन बन चुका था।"

मीनाक्षी ने कहा, "जब कोर्ट ने बिक्रम को मुझे 503 करोड़ का मुआवजा देने का ऑर्डर दिया, तब वह इंडिया भाग निकला।" 47 साल की मीनाक्षी ने वकालत पेशा भी छोड़ने का एलान किया है। कोर्ट ने बिक्रम के गैरेज मैनेजर से पूछा है कि उसकी कारें कहां गईं। मैनेजर का कहना है कि उसे इन कारों के बारे में कुछ भी नहीं पता। कोर्ट ने जांच के ऑर्डर दिए हैं। मीनाक्षी ने कोर्ट को बताया था कि बिक्रम की 43 लग्जरी कारें गायब हैं।