देश के 1,000 रेलवे स्टेशनों पर शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराएगा यह बैंक

नई दिल्ली (1 अप्रैल): भारत में दूषित पेयजल की समस्या से निपटने के लिए एक निजी बैंक आगे आया है। यह बैंक है- यस बैंक। यस बैंक ने वाटर सिक्योरिटी प्रोजेक्ट शुरू किया है। इसको लेकर लोगों में बदलाव की उम्मीद और काफी भरोसा दिखाई दे रहा है।

'ईटी नॉउ' के मुताबिक, काफी कम समय में यस बैंक ने राज्य स्तर के एनजीओस और सामुदायिक संस्थाओं की मदद से पानी से वंचित इलाकों में साफ पेयजल की व्यवस्था करा रहा है। अपने इस वाटर सिक्योरिटी प्रोग्राम और पार्टनरशिप्स के जरिए यस बैंक 2020 तक 10 करोड़ लोगों के जीवन को लाभान्वित कराने की योजना बना रहा है।

इस प्रोजेक्ट का मकसद उन स्थानों पर शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराना है, जहां पर लोगों को मजबूरी में खराब हालात में रहना पड़ता है। और असुरक्षित पानी पीने के खतरों के बारे में भी जानकारी नहीं। इसी प्रोजेक्ट के तहत यस बैंक का मकसद 2019 तक 1000 रेलवे स्टेशनों पर साफ पेयजल उपलब्ध कराना है। इस वित्तीय वर्ष में 100 वॉटर प्यूरीफिकेशन सिस्टम्स इंस्टॉल कराए हैं। यस बैंक केवल उन्ही रेलवे स्टेशनों को टारगेट कर रहा है, जिनकी कमाई 4 करोड़ से कम है।