माथे से टपक रहा था खून, फिर भी खेला मुकाबला

रियो (20 अगस्त): इसे खेल का जुनून कहें या अपने देश के मर-मिटने का जज्बा। रियो ओलंपिक के 74 किग्रा कैटेगरी के मेन्स फ्री-स्टाइल रेसलिंग का फाइनल मुकाबला रूसी रेसलर एनियर गेडुएव भले ही हार गए, लेकिन उन्होंने लोगों का दिल जीत लिया।

मैच के दौरान बुरी तरह घायल गेडुएव आखिर वक्त तक बाउट में बने रहे। उनकी बायीं आंख के ऊपर गहरी चोट लगी थी। खून टपक रहा था, इलाज के लिए मैच को कई बार रोका गया। लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी। ईरान के रेसलर हसन याजदानिचराति को कड़ी टक्कर दी और सिल्वर जीता।

क्या हुआ था मैच में और कैसे लगी थी चोट... - रूस के रेसलर एनियर गेडुएव अपने पहले मैच में बुरी तरह से जख्मी हो गए थे। उनकी बायीं आंख के ऊपर बड़ा कट लगा था। - इसके बाद भी वे फाइनल मुकाबले में डटे रहे। मैच के दौरान गेडुएव के इलाज के लिए बाउट को कई बार रोका गया। - ईरानी पहलवान इससे चिढ़ने के साथ परेशान भी हो रहे थे। बार-बार कट ओपन हो रहा था। धीरे-धीरे बैंडेज की साइज बढ़ रही थी। ये ऐसी हो गई थी जैसे हेल्मेट हो। - इतना ही नहीं, फ्लोर पर खून गिरने से उसे बार-बार साफ कराया गया।