यामी गौतम ने सोशल मीडिया पर लिखा नोट, पढ़कर ऋतिक रोशन हो गए भावुक

नई दिल्ली ( 27 जनवरी ): अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपने बयान को लेकर अक्सर चर्चा में रहते हैं। उन्होंने कहा है कि व्यापक रूप से प्रताड़ना समझे जाने वाले मुंह और नाक में पानी भरने के तरीके तथा अपराधियों से पूछताछ के अन्य ऐसे अन्य तरीकों को वह बहाल करने पर विचार कर सकते हैं, लेकिन यह सबकुछ CIA और पेंटागन प्रमुखों की सलाह पर निर्भर करेगा।

उन्होंने कहा कि जब आतंकवाद की बात आती है तो वह जहर से जहर को मारने में यकीन करते हैं। जब उनसे ऐसे तरीकों के असरदार होने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि निश्चित रूप से ये काम करते हैं लेकिन वह इस बात को अपने CIA और पेंटागन प्रमुखों पर छोड़ देंगे कि इन तरीकों को बहाल किया जाए या नहीं।

ट्रंप ने कहा, ‘जब वे हमारे लोगों और दूसरे लोगों के सिर काट रहे हैं। जब वे बस इतनी सी बात के लिए लोगों के सिर कलम कर रहे हैं क्योंकि वे पश्चिम एशिया में ईसाई हैं। ISIS ऐसे कारनामे कर रहा है जिनके बारे में मध्ययुगीन काल के बाद से किसी ने नहीं सुना है तो क्या मैं पूरी मजबूती के साथ वाटरबोर्डिंग (मुंह और नाक में पानी डालकर दी जाने वाली प्रताड़ना) पर विचार करूंगा? जहां तक मेरा मानना है, हमें जहर से जहर को मारना होगा।’ ट्रंप यदि पूछताछ के इन अतिवादी तरीकों को बहाल करते हैं तो वह उस अमेरिकी कानून के विरूद्ध जाएंगे जिसे वर्ष 2015 में सीनेट ने मंजूरी दी थी। राष्ट्रपति ने कहा कि वह इस मुद्दे पर शीर्ष राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों की सलाह पर भरोसा करेंगे।

ट्रंप ने कहा, ‘लेकिन क्या मैं महसूस करता हूं कि यह काम करता है तो मैं कहूंगा कि निश्चित ही यह काम करता है। मैंने बस 24 घंटे पहले ही खुफिया के शीर्ष स्तर के लोगों से बातचीत की और मैंने सवाल पूछा कि क्या यह काम करता है? क्या प्रताड़ना काम करती है। और जवाब था, हां बिल्कुल।