स्पीड पोस्ट से घर भेजी जाएगी याकूब मेमन की डिग्री

नई दिल्ली(30 जुलाई): मुंबई बम ब्लास्ट केस में पिछले साल फांसी पर लटका दिए गए याकूब मेमन की डिग्री स्पीड पोस्ट से घर भेजी जाएगी। बता दें कि नागपुर सेंट्रल जेल में बंद रहने के दौरान वह कॉरेस्पान्डन्स स्टडी कर रहा था।

- सजा के दौरान याकूब इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी से एमए इंग्लिश पास कर चुका था। उसे जेल में ही इसकी डिग्री भी मिल गई थी। - आगे वह एमए पॉलिटिकल साइंस की पढ़ाई कर रहा था। इसकी डिग्री उसे नहीं मिल पाई थी। उसे 30 जुलाई 2015 को सेंट्रल जेल में फांसी दी गई थी।

जेल से दिए थे एमए के एग्जाम

- नागपुर इग्नू के लोकल डायरेक्टर डाॅ. पी शिवस्वरूप ने बताया कि याकूब ने जेल से ही एमए के एग्जाम दिए थे। - फांसी दिए जाने के बाद उसके परिवार में किसी ने भी यूनिवर्सिटी से उसकी डिग्री के बारे में कॉन्टेक्ट नहीं किया। - जेल से एग्जाम देने वाले कैदियों को इग्नू जेल में रहते ही डिग्री दे देती है। याकूब ने साल 2014 में एमए पॉलिटिकल साइंस का एग्जाम दिया था। - इग्नू उसकी इस डिग्री को जल्द ही उसके मुंबई के पते पर स्पीड पोस्ट के जरिए भेजने वाला है। - याकूब अपनी पूरी फैमिली में सबसे पढ़ा-लिखा था। जेल में भी उसने पढ़ाई की। - याकूब पेशे से चार्टर्ड अकाउंटेंट था। उसपर मुंबई बम धमाकों की साजिश में शामिल होने का गुनाह था।