आज भारत की बेटियां वसूलेंगी लगान, वर्ल्ड कप फाइनल में इंग्लैंड से भिड़ंत

नई दिल्ली (23 जुलाई): महिला विश्व कप क्रिकेट के फाइनल में आज भारत की बेटियों का इंग्लैंड से मुकाबला है। यह मुकाबला क्रिकेट के मक्का कहे जाने वाले लॉर्ड्स के मैदान पर दोपहर 3 बजे से शुरू होगा। मिताली की अगुवाई वाली टीम वर्ल्ड कप जीतने में कामयाब होती है तो भारत, ऑस्ट्रेलिया के बाद दूसरा ऐसा देश बन जाएगा जिसकी पुरुष और महिला दोनों टीमों ने 50 ओवर का क्रिकेट वर्ल्ड कप अपने नाम किया होगा। इससे पहले भारतीय महिला टीम 2005 में विश्वकप के फाइनल में पहुंची थी लेकिन ऑस्ट्रेलिया ने भारत को हरा दिया था।

इस बार इतिहास ने अपने आप को दोहराया के करीब खड़ा है। यह वही मैदान हैं जहां 1983 में भारत पुरुष टीम ने वेस्टइंडीज को हराकर भारत को पहला वर्ल्ड कप जीता था। अगर भारतीय महिला टीम यह मुकाबला जीत जाती है, तो महिला वर्ल्ड कप के 44 साल के इतिहास में वह पहली बार वर्ल्ड चैंपियन बनेगी।

इसी के साथ ही टीम इंडिया की कप्तान मिताली राज के पास भारतीय क्रिकेट (महिला और पुरुष) के इतिहास में कपिल देव और महेंद्र सिंह धोनी के बाद वर्ल्ड चैंपियन कप्तान बनने का मौका है। कपिल देव ने भारत को 1983 और महेंद्र सिंह धोनी ने 2011 में वर्ल्ड चैंपियन बनाया था। अगर मिताली टीम इंडिया को चैंपियन बना देती हैं, तो इतिहास के सुनहरे पन्नों में उनका नाम दर्ज हो जाएगा।