नरसिंह यादव को लेकर हुआ अब तक का सबसे बड़ा खुलासा

नई दिल्ली(26 जुलाई): कुछ दिन पहले तक ओलिंपिक की जमकर तैयारी कर रेसलर नरसिंह डोप टेस्ट में फेल होने के बाद से शॉक्ड हैं। उनके साथी ने बताया कि यह खबर मिलते ही नरसिंह ने सुसाइड की सोच ली थी। उसे बदनामी सहन नहीं हो रही है।

हालांकि, कोच जगमाल सिंह और सीनियर मेंबर्स ने समझाया तो वह नॉर्मल हो सका। इस बीच, कुश्ती संघ ने नरसिंह के साथ सोनीपत साई सेंटर में साजिश की आशंका जाहिर की गई है। नरसिंह इसी सेंटर में ओलिंपिक की तैयारी कर रहे थे। 

डोप टेस्ट में पॉजिटिव पाए जाने के बाद नरसिंह यादव ने तैयारी छोड़ दी है। उनके साथी का कहना है कि अब वह ओलिंपिक की तैयारी नहीं, बल्कि अपने खिलाफ डोप मामले में सजा का इंतजार कर रहा है। बुधवार को राष्ट्रीय डोपिंग रोधी एजेंसी (नाडा) सजा का एलान करेगी।

नरसिंह के साथी ने बताय कि नरसिंह अंदर से बहुत मजबूत है। उसने अपने दम पर ओलिंपिक टिकट हासिल किया। अब वह रियो में देश को गोल्ड मेडल दिलाना चाहता था। साई सेंटर में सुशील और योगेश्वर की फोटोज के नीचे अभ्यास करता था। वह आज भी इन दोनों पहलवानों को अपना हीरो मानता है।

साई सेंटर, सोनीपत के मेस इंचार्ज सत्या का कहना है कि मैं अपने कुकिंग स्टाफ की गारंटी ले सकता हूं। मेस में पूरी सावधानी रहती है। लोग खाना बाहर से भी मंगाते हैं, मेस से ले जाकर कमरे में तड़का वगैरा लगाते हैं। ऐसे में कोई षड्यंत्र भी हो सकता है, लेकिन हमारी ओर से कोई लापरवाही नहीं हुई है।