BREAKING: पायलटों के साथ SU-30 का मलबा तेजपुर से 60 किमी दूर जंगल में मिला

नई दिल्ली (26 मई): तीन दिन पहले लापता हुए भारतीय सेना के लड़ाकू विमान सुखोई-30 विमान का मलबा मिल गया है। दो पायलटों के साथ लापता जेट का मलबा तेजपुर से 60 किमी दूर जंगल में पाया गया।

विमान का मलबा मिलने के बाद हादसे की कोर्ट ऑफ इंक्वायरी जांच के आदेश दे दिए है, जो यह पता लगाएगी कि हादसे का क्या कारण रहा। अभी ग्राउंड पार्टियां मलबे को एयरलिफ्ट किए जाने की प्रतीक्षा कर रही हैं। फ़्लाइट डेटा रेकॉर्डर और क्रू की तलाश की जाएगी।

यह विमान असम के तेजपुर एयर फोर्स बेस स्टेशन से सुबह उड़ान भरने के बाद लापता हुआ। विमान आखिरी बार 12:30 बजे तक ग्राउंड सपॉर्ट के संपर्क में था। सुखोई- 30 ने एयरफोर्स स्टेशन बेस से दो पायलटों के साथ उड़ान भरी थी। बताया जा रहा है कि विमान नियमित ट्रेनिंग मिशन के तहत उड़ान पर था। 12:30 बजे जब विमान अरुणाचल के डौलसांग इलाके में था तभी रेडार से रेडियो संपर्क खो बैठा।

लापता विमान को खोजने के लिए बड़े पैमाने पर खोज अभियान जारी था। इसकी खोज के मिशन में भारतीय वायु सेना के इलेक्ट्रो-ऑप्टिकल पेलोड वाले सी -130 विमान, अडवांस्ड लाइट हेलिकॉप्टर और चेतक हेलिकॉप्टरों को लगाया गया था। तेजपुर एयरफोर्स स्टेशन असम के सोनितपुर जिले में स्थित है। सुखोई-30 विमान एयरफोर्स के फ्रंटलाइन और सबसे प्रमुख विमानों में से एक है।