दुनिया की सबसे लंबी गुफा- अपने जंगल अपने पर्वत, अपने झरने अपने बादल, अपनी घाटी अपना मौसम

नई दिल्ली (2 जून): 40 वियेतनाम की हैंग सोन डूंग दुनिया की सबसे बड़ी गुफा है और अगर इसमें सैर करने का मौका मिल जाये तो वो जन्नत की सैर से कम नहीं है। हान सोन डूंग नाम की इस अद्भुत गुफा की अपने जंगल, घाटी, नदी, झरने और पहाड़ हैं। यही नहीं गुफा का अपना अलग मौसम भी है। बादल गुफा के अंदर ही बनते और बरसते हैं। आकार इतना बड़ा कि 40 मंजिला इमारत इसके अंदर आसानी से समा जाये। दुनियाभर के नेचर फोटोग्राफरों के लिए यह पसंदीदा स्थान है। गुफा में घुसने से पहले लगभग आधे दिन पगडंडी पर चलकर जंगल पार करना पड़ता है। रास्ते भर रंगीन तितलियां और फूलों की सुगंध आपके साथ चलती है। फिर एक छोटी नदी को घुटनों के बल रेंगकर पार करना होगा। रस्सियों और हर्नेस से 262 फीट दीवार से उतरते वक्त बादलों को ऊपर उठते देख सकते हैं। नीचे उतरते ही गुफा का मौसम स्वागत करेगा। यहां झरने मिलेंगे। पहाड़ पर चढ़कर चिल्लाओ तो दीवारों से टकराकर आवाज कानों में गूंजेगी। ओक्सलिस एडवेंचर्स नाम की कंपनी गुफा के टूर आयोजित करती है। साल में सिर्फ 450 पर्यटकों को ही गुफा की सैर कराने की अनुमति है। ओक्सलिस वियतनामी सरकार के साथ मिलकर गुफा के संरक्षण के लिए काम करती है।2013 के अगस्त महीने में पहली बार सैलानियों की पहली टुकड़ी गुफा के भीतर गयी थी। इस गुफा की खोज हो कांग्हा नाम के एक स्थानीय युवक ने 1991 में की थी। चूना पत्थर के पहाड़ों से बनी इस गुफा को 2009 में अंतर्राष्ट्रीय मान्यता मिली थी।

(देखिये इस गुफा की तस्बीरें)

1-

2-

3-

4-

5-

6-

7-

8-

9-

10-

11-

12-

13-

14-

15-

16-

17-