PM Modi Japan Visit Quad Summit 2022: पीएम मोदी ने जापान में प्रवासी भारतीयों को किया संबोधित, जानें क्या कहा?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने टोक्यो, जापान में भारतीय डायस्पोरा के सदस्यों को संबोधित किया है। बता दें कि पीएम मोदी का साथी सदस्य देशों: ऑस्ट्रेलिया, जापान और संयुक्त राज्य अमेरिका के नेताओं के साथ क्वाड शिखर सम्मेलन सहित कई कार्यक्रमों में भाग लेने का कार्यक्रम है।

PM Modi Japan Visit Quad Summit 2022: पीएम मोदी ने जापान में प्रवासी भारतीयों को किया संबोधित, जानें क्या कहा?
x

टोक्यो/नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने टोक्यो, जापान में भारतीय डायस्पोरा के सदस्यों को संबोधित किया है। बता दें कि पीएम मोदी का साथी सदस्य देशों: ऑस्ट्रेलिया, जापान और संयुक्त राज्य अमेरिका के नेताओं के साथ क्वाड शिखर सम्मेलन सहित कई कार्यक्रमों में भाग लेने का कार्यक्रम है। पहले दिन, यानी आज, प्रधानमंत्री ने इंडो-पैसिफिक इकोनॉमिक फ्रेमवर्क (IPEF) को लॉन्च करने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन द्वारा बुलाई गई बैठक में भाग लिया। पीएम मोदी ने जापानी कारोबारी समुदाय के विभिन्न नेताओं से भी मुलाकात की।




और पढ़िए - PM Modi Japan Visit Quad Summit 2022: पीएम मोदी ने जापान के युवाओं को कम से कम एक बार भारत आने के लिए आमंत्रित किया





प्रवासी भारतीयों के नाम संबोधन में क्या कहा पीएम मोदी ने-


मैं जब भी जापान आता हूं तो मुझे यहां के लोगों का बेहद प्यार मिलता है। आप में से कुछ लोग जापान में वर्षों से रह रहे हैं और इस देश की संस्कृति को अपनाया है। फिर भी, भारतीय संस्कृति और भाषा के प्रति समर्पण निरंतर बढ़ रहा है।


 



पीएम ने यह भी कहा कि भारत और जापान स्वाभाविक साझेदार हैं। भारत की विकास यात्रा में जापान की अहम भूमिका रही है। उन्होंने कहा, "जापान के साथ हमारे संबंध घनिष्ठता के, आध्यात्मिकता के, सहयोग के, अपनेपन के हैं।"


मोदी ने कहा कि विवेकानंद अपने ऐतिहासिक संबोधन के लिए शिकागो जाने से पहले जापान आए थे और जापान में अपने मन पर गहरी छाप छोड़ी थी। उन्होंने जापान के लोगों की देशभक्ति, जापान के लोगों के विश्वास, जापान के लोगों की स्वच्छता के प्रति जागरूकता की खुले तौर पर प्रशंसा की थी।


कोविड -19 पर बोलते हुए, मोदी ने कहा, "कोरोना ने दुनिया के सामने 100 साल का सबसे बड़ा संकट पैदा किया। जब यह शुरू हुआ तो किसी को नहीं पता था कि आगे क्या होगा। किसी को पता भी नहीं था कि इसकी वैक्सीन आएगी या नहीं। लेकिन भारत ने उस समय दुनिया के देशों में दवाएं भी भेजीं।


पीएमओ ने ट्वीट किया, "इस कार्यक्रम को लेकर प्रवासी भारतीयों में जबरदस्त उत्साह है।"

Next Story