ग्रीनपीस का दावा, प्रदूषण की राजधानी है दिल्ली, गुरुग्राम दुनिया का सबसे प्रदूषित शहर

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (5 मार्च): दिल्ली दुनिया सबसे प्रदूषित शहर है और यहां सांस लेना भी खतरनाक है। ये खुलासा किया है ग्रीनपीस एनजीओ ने। ग्रीनपीस ने दुनिया के सबसे प्रदूषित 62 शहरों की लिस्ट जारी की है जिनमें दिल्ली सबसे ऊपर है। एनजीओ ग्रीनपीस का यह आंकलन 2018 के पर्यावरण के आधार पर है। ग्रीनपीस के मुताबिक- आइक्यूएयर, एयरविजुअल, एयर क्वालिटी मैप के माध्यम से कई स्थानों की वायु गुणवत्ता की रियल टाइम स्थिति का पता लगा सकते हैं। इससे सभी जगहों की वायु गुणवत्ता रीडिंग को एक ही जगह से मापा जा सकता है। रिपोर्ट में 2018 में एयरविजुअल प्लेटफार्म के माध्यम से जुटाए गए पीएम 2.5 के आंकड़ों के संदर्भ में वायु गुणवत्ता को मापा गया है। इस रिपोर्ट में प्रदूषण के कारण स्वास्थ्य को होने वाले नुकसान का भी अनुमान लगाया गया है और दिल्ली का सबसे प्रदूषित शहर में आना बहुत चिंता की बात है।

ग्रीनपीस की इस लिस्ट में तीन राजधानी शामिल हैं, जिसमें से सबसे ऊपर भारत की राजधानी दिल्ली, दूसरे नंबर पर बांग्लादेश की राजधानी ढाका और तीसरे नंबर पर अफगानिस्तान की राजधानी काबुल है। इस रिपोर्ट में दुनिया के टॉप छह सबसे ज्यादा प्रदूषित शहरों के लिस्ट में पांच शहर भारत के हैं। एक शहर पाकिस्तान का है। पहले नंबर पर गुरुग्राम, दूसरे पर गाजियाबाद और तीसरे नंबर पर पाकिस्तानी शहर फैसलाबाद है। चौथे स्थान पर हरियाणा का फरीदाबाद, पांचवे पर राजस्थान का भिवाड़ी शहर और छठे नंबर पर नोएडा है।  रिपोर्ट के मुताबिक, फरीदबाद में PM2.5 का स्तर बढ़कर 129.1, भिवाड़ी में 125.4 और नोएडा में 123.6 माइक्रोग्राम/ क्यूबिक मीटर रिकॉर्ड किया गया है।इस तरह देखें तो दिल्ली-एनसीआर के सभी प्रमुख शहरों में हवा सांस लेने लायक नहीं है क्योंकि दिल्ली, नोएडा, गाजियाबाद, फरीदाबाद, गुरुग्राम ये सभी दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों में टॉप पर हैं।  पर्यावरण और मानवाधिकारों पर संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत डेविड आर. बॉयड के अनुसार, छह अरब से अधिक लोग इतनी प्रदूषित हवा में सांस ले रहे हैं, जिसने उनके जीवन, स्वास्थ्य और बेहतरी को खतरे में डाल दिया है। इसमें एक-तिहाई संख्या बच्चों की है।