World Cup 2019: कोहली एंड कंपनी का विश्व चैंपियन बनने का सपना हुआ चूर-चूर, पीएम मोदी ने कही ये बातें

Team Indiaन्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (11 जुलाई): न्यूजीलैंड के हाथों 18 रन की शिकस्त के साथ ही विश्व कप 2019 में टीम इंडिया का सफर समाप्त हो गया है। टीम इंडिया की इस हार से जहां उसका विश्व चैंपियन बनने का सपना चूर-चूर हो गया हैं वहीं दुनियाभर के क्रिकेट प्रेमी सेमीफाइनल जैसे अहम मुकाबले में टीम इंडिया के प्रदर्शन से मायूस हैं। बड़ी तादाद में क्रिकेट प्रेमी इस लचर प्रदर्शन के लिए टीम इंडिया की आलोचना कर रहे हैं। वहीं हार के बाद भी प्रधानमंत्री मोदी ने कप्तान विराट कोहली के नेतृत्व वाली टीम की तारीफ की है। मोदी ने ट्वीट किया, “निराशानजनक परिणाम, लेकिन भारतीय टीम के अंत तक जारी रहे जुझारूपन को देखकर अच्छा लगा। भारत ने पूरे टूर्नामेंट में बल्लेबाजी, गेंदबाजी और फील्डिंग तीनों अच्छी की।” मोदी ने साथ ही कहा कि हार-जीत खेल का हिस्सा है। उन्होंने आने वाले मैचों के लिए भारत को शुभकामनाएं दीं। प्रधानमंत्री ने ट्वीट में लिखा, “हार-जीत खेल का हिस्सा है। भविष्य के मैचों के लिए शुभकामनाएं।

राहुल गांधी ने भी विश्व कप में भारतीय टीम के प्रदर्शन को सराहा। राहुल ने ट्वीट किया, “आज की रात करोड़ों दिल टूटे होंगे, लेकिन भारतीय टीम ने अच्छी लड़ाई लड़ी और वह हमारे प्यार और सम्मान की हकदार है।”राहुल ने न्यूजीलैंड को फाइनल में जाने के लिए भी बधाई दी और लिखा, “न्यूजीलैंड को बधाई हो। उन्होंने अच्छी जीत हासिल की, जिससे वह फाइनल में जगह बनाने में सफल रही।”भारत को लगातार दूसरी बार विश्व कप के सेमीफाइनल में हार का सामना करना पड़ा है। 2015 विश्व कप में भी भारत को सेमीफाइनल में आस्ट्रेलिया ने हराया था।

क्रिकेट विश्व कप 2019 से भारत बाहर हो गया है। सेमीफाइनल में भारत को न्यूजीलैंड से 18 रनों से हार का सामना करना पड़ा। लीग मुकाबले में शानदार प्रदर्शन करने वाली टीम इंडिया के इस हार से भारत ही नहीं दूनिया भर के क्रिकेट प्रेमी मायूस है। न्यूजीलैंड ने भारत के सामने निर्धारित 50 ओवरों में 239 रन का लक्ष्य रखा था, जिसके जवाब में टीम इंडिया 49.3 ओवर में 221 रन पर सिमट गई। इस मुकाबले में भारतीय शीर्षक्रम ने बेहद घटिया शुरुआत की लेकिन बाद भारत ने वापसी की कोशिश की, पर आखिरी ओवरों में टीम फिर बिखर गई। धोनी और रवींद्र जडेजा की जोड़ी ने 7वें विकेट के लिए अच्छी साझेदारी की। भारत ने अपने छह विकेट महज 92 रनों पर ही खो दिए थे। लेकिन जडेजा और धोनी ने सातवें विकेट के लिए 116 रन जोड़कर एक बार फिर से उम्मीद जगा दी थी। तभी न्यूजीलैंड के ट्रेंट बोल्ट ने मैच का रुख बदल दिया। उन्होंने 208 के कुल स्कोर पर जडेजा को कप्तान केन विलियम्सन के हाथों कैच आउट करवा दिया। जडेजा ने 59 गेंदों पर चार चौके और चार छक्के की मदद से 77 रन बनाए। आखिरी दो ओवरों में भारत को जीत के लिए 31 रनों की जरूरत थी। धोनी ने पहली गेंद पर छक्का मारा। लेकिन दूसरी गेंद पर उन्होंने दो रन की कोशिश में वो 50 रन बनाकर रन आउट हो गए। इसी के साथ भारत की उम्मीदें खत्म हो गई। धोनी के बाद बैटिंग करने आए गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार को न्यूजीलैंड के लॉकी फर्ग्यूशन शून्य पर आउट कर दिया। जेम्स नीशम ने युजवेंद्र चहल को 5 रन पर आउट कर दिया। इस जीत के साथ लगातार दूसरी बार न्यूजीलैंड की टीम वर्ल्ड कप के फाइनल में पहुंच गया।