विश्व कप से बाहर हुआ भारत, जानें- सचिन समेत अन्य पूर्व खिलाड़ियों ने ट्वीट कर क्या कहा ?

dhoni-jadeja

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (11 जुलाई): क्रिकेट विश्व कप 2019 से भारत बाहर हो गया है। सेमीफाइनल में भारत को न्यूजीलैंड से 18 रनों से हार का सामना करना पड़ा। लीग मुकाबले में शानदार प्रदर्शन करने वाली टीम इंडिया के इस हार से भारत ही नहीं दूनिया भर के क्रिकेट प्रेमी मायूस है। न्यूजीलैंड ने भारत के सामने निर्धारित 50 ओवरों में 239 रन का लक्ष्य रखा था, जिसके जवाब में टीम इंडिया 49.3 ओवर में 221 रन पर सिमट गई। इस मुकाबले में भारतीय शीर्षक्रम ने बेहद घटिया शुरुआत की लेकिन बाद भारत ने वापसी की कोशिश की, पर आखिरी ओवरों में टीम फिर बिखर गई। धोनी और रवींद्र जडेजा की जोड़ी ने 7वें विकेट के लिए अच्छी साझेदारी की। भारत ने अपने छह विकेट महज 92 रनों पर ही खो दिए थे। लेकिन जडेजा और धोनी ने सातवें विकेट के लिए 116 रन जोड़कर एक बार फिर से उम्मीद जगा दी थी। तभी न्यूजीलैंड के ट्रेंट बोल्ट ने मैच का रुख बदल दिया। उन्होंने 208 के कुल स्कोर पर जडेजा को कप्तान केन विलियम्सन के हाथों कैच आउट करवा दिया। जडेजा ने 59 गेंदों पर चार चौके और चार छक्के की मदद से 77 रन बनाए। आखिरी दो ओवरों में भारत को जीत के लिए 31 रनों की जरूरत थी। धोनी ने पहली गेंद पर छक्का मारा। लेकिन दूसरी गेंद पर उन्होंने दो रन की कोशिश में वो 50 रन बनाकर रन आउट हो गए। इसी के साथ भारत की उम्मीदें खत्म हो गई। धोनी के बाद बैटिंग करने आए गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार को न्यूजीलैंड के लॉकी फर्ग्यूशन शून्य पर आउट कर दिया। जेम्स नीशम ने युजवेंद्र चहल को 5 रन पर आउट कर दिया। इस जीत के साथ लगातार दूसरी बार न्यूजीलैंड की टीम वर्ल्ड कप के फाइनल में पहुंच गया।

Kohali

इस हार के बाद भारतीय टीम का वर्ल्ड चैंपियन बनने का सपना चूर-चूर हो गया। इस हार के बाद पूर्व भारतीय कप्तान और विकेटकीपर बल्लेबाज एमएस धोनी आलोचकों के निशाने पर हैं, लेकिन सचिन तेंडुलकर ने न केवल धोनी का सपॉर्ट किया है, बल्कि विराट और रोहित के अलावा अन्य खिलाड़ियों को अपना रोल समझने की नसीहत भी दी है। हार से निराश सचिन ने कहा कि भारतीय बल्लेबाजों ने 240 रन के लक्ष्य को काफी बड़ा बना दिया। न्यूजीलैंड के खिलाफ 18 रन की हार के साथ भारत विश्व कप से बाहर हो गया। तेंडुलकर ने कहा, ‘मैं  निराश हूं, क्योंकि हमें बिना किसी संदेह के 240 रन का लक्ष्य हासिल करना चाहिए था। यह बड़ा स्कोर नहीं था। हां, न्यू जीलैंड ने शुरुआत में ही तीन विकेट चटकाकर स्वप्निल शुरुआत की।’उन्होंने कहा, ‘लेकिन मुझे लगता है कि हमें अच्छी शुरुआत के लिए हमेशा रोहित शर्मा या ठोस आधार तैयार करने के लिए विराट कोहली पर निर्भर नहीं रहना चाहिए। उनके साथ खेल रहे खिलाड़ियों को भी अधिक जिम्मेदारी लेनी होगी।’ तेंडुलकर ने कहा, ‘यह सही नहीं है कि हर बार धोनी से मैच को फिनिश करने की उम्मीद की जाए। वह बार बार ऐसा करता आया है।’

भारत के मध्यक्रम के पूर्व बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण ने कहा कि धोनी और जडेजा भले ही मैच को खत्म नहीं कर पाए लेकिन वे शानदार थे। लक्ष्मण ने ट्वीट किया, ‘केन विलियमसन और न्यू जीलैंड को लगातार दूसरे विश्व कप फाइनल में जगह बनाने की बधाई। रविंद्र जडेजा ने धोनी के साथ मिलकर शानदार संघर्ष किया और भारत को इतना करीब ले गए लेकिन न्यू जीलैंड ने नई गेंद से बेहतरीन गेंदबाजी की और यह निर्णायक रहा।’

हरभजन सिंह ने ट्विटर पर लिखा, ‘दिल टूट गया। न्यू जीलैंड को बधाई। बेहतरीन प्रदर्शन किया जडेजा।’ सुरेश रैना का मानना है कि विश्व कप से बाहर होने के बावजूद भारत ने टूर्नमेंट में अपने प्रदर्शन से लाखों दिल जीते। रैना ने ट्वीट किया, ‘लड़कों भाग्य ने साथ नहीं दिया। अच्छा खेले। टूर्नमेंट के दौरान अपने प्रदर्शन से आपने दिल जीते। न्यू जीलैंड को बधाई।’

क्रिकेटर से कमेंटेटर बने संजय मांजरेकर ने लिखा, ‘मेरी नजरों में भारत चैंपियन टीम से कम नहीं। 7 मैच जीते दो हारे। अंतिम मैच काफी करीबी रहा। अच्छा काम किया भारत।’