पाकिस्तान को भारतीय क्रिकेटर्स के देश प्रेम से फिर लगी मिर्ची

न्यूज 24 ब्यूरो, मुंबई (7 जून): भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी बीते 5 जून को वर्ल्डकप के पहले मुकाबले में साउथ अफ्रीका के खिलाफ ये आर्मी बैज पहनकर उतरे थे। जिस पर आईसीसी ने एतराज जताया है। अब देखना ये है कि आगे के मैच में धोनी ये ग्लव्स पहनकर मैदान में उतर पाते हैं या नहीं। इमरान खान कैबिनेट के मंत्री फवाद चौधरी ने धोनी के बलिदान बैज के खिलाफ ट्वीट कर अपने मंसूबे जता दिए हैं। 

लेकिन भारत के क्रिकेट खिलाड़ियों के देश प्रेम को लेकर पाकिस्तान को पहली बार मिर्ची नहीं लगी। इससे पहले भी पुलवामा के शहीद परिवारों के लिए फंड इक्टठा करने के लिए रांची में आस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले गए मैच में टीम इंडिया ने एक खास कैप लगाया था। जिसे लेकर तब भी फबाद चौधरी ने  जेंटलमैन गेम के राजनीतिकरण का आरोप लगाया था।

आपको बता दें कि भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी समय-समय पर लीग से हटकर चीजें करते रहते हैं। धोनी को भारतीय आर्मी ने 1 नवंबर 2011 को लेफ्टिनेंट कर्नल की मानक रैंक प्रदान की थी। रैंक मिलने के बाद से धोनी समय-समय पर सार्वजनिक तौर पर सेना के प्रति अपना सम्मान प्रकट करते रहते हैं। ऐसा ही कुछ धोनी ने विश्वकप 2019 में भारत के पहले मैच में किया। धोनी ने मैच में भारतीय स्पेशल पैरा फोर्स के बलिदान बैच के लगे ग्लब्स को पहना था। इस बैच को लेकर मैच के बाद काफी चर्चा हुई थी। 

अब आईसीसी ने बीसीसीआई से इस बैच को हटवाने का आग्रह किया है। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद ने भारतीय क्रिकेट बोर्ड से धोनी के ग्लब्स से बलिदान बैज को हटाने के लिए निवेदन किया है। गौरतलब है कि महेंद्र सिंह धोनी ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ भारत के पहले मैच में बलिदान बैज लगा ग्लब्स पहना था। बता दें बलिदान बैज भारतीय स्पेशल पैरा फोर्स का स्पेशल बैज है।

अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद के महाप्रबंधक क्लेयर फरलोंग ने कहा है कि 'हमने भारतीय क्रिकेट बोर्ड से धोनी के दस्ताने से इस चिन्ह को हटवाने की मांग की है। धोनी के दस्तानों पर पैरामिलिट्री फोर्स का विशेष बैज लगा हुआ है। आईसीसी के एक नियम के अनुसार 'आईसीसी के कपड़ो या अन्य वस्तुओं पर अंतर्राष्ट्रीय मुकाबलों के दौरान धर्म, राजनीति आदि का संदेश नहीं होना चाहिए।' धोनी इस स्पेशल बैज लगे दस्ताने के साथ विश्वकप 2019 में भारत के पहले मुकाबले में खेल रहे थे। धोनी के इस कदम पर लोगों ने खुथी जाहिर की थी साथ ही लोग सोशल मीडिया पर इसकी तारीफ कर रहे हैं। वहीं आईसीसी के इस कदम के बाद से सोशल मीडिया पर धोनी के फैंस का गुस्सा फूट पड़ा है। फैंस ने अलग-अलग तरह के मीम्स से इस फैसले का विरोध जताया है। अब आईसीसी के इस मांग पर भारतीय क्रिकेट बोर्ड क्या रुख अपनाता है। इससे पहले भारतीय टीम एक मैच में सेना की कैप पहन कर मैच खेल चुकी है। भारत का अगला मुकाबला 9 जूून को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ है। उस मैच में धोनी इस बैज लगे दस्ताने के साथ खेलते हैं या नहीं यह देखना दिलचस्प होगा।