वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप: सेमीफाइनल जीतने के बाद बोलीं सिंधु- मेरा लक्ष्य है गोल्ड जीतना

नई दिल्ली(27 अगस्त): भारत की उम्मीदों को बरकरार रखते हुए रियो ओलिंपिक की रजत पदक विजेता पी.वी. सिंधु ने वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप के फाइनल में प्रवेश कर लिया है। सिंधु का खिताबी मुकाबला अब जापान की खिलाड़ी नोजोमी ओकुहारा से होगा। 

- महिला एकल वर्ग के सेमीफाइनल में चीन की खिलाड़ी चेन युफेई को मात देकर खिताबी मुकाबले का रास्ता तय किया। शनिवार देर रात खेले गए इस मुकाबले में सिंधु ने युफेई को 48 मिनटों के भीतर सीधे गेमों में 21-13, 21-10 से मात दी। 

- 2013 में ग्वांगझोउ और 2014 में कोपेनहेगन में आयोजित हुए इस चैंपियनशिप में सिंधु को तीसरा स्थान हासिल हुआ है। इस बार सिंधु ने अच्छा प्रयास जारी रखते हुए खिताबी मुकाबले में कदम रखकर अपना रजत पदक पक्का कर लिया है।

- सिंधु अब भारत की दूसरी खिलाड़ी हैं जो वर्ल्ड बैडमिंटन चैम्पियनशिप में फाइनल में पहुंची हैं। इससे पहले जकार्ता में साइना नेहवाल फाइनल खेल चुकी हैं। फाइनल में सिंधु का मुकाबला ओकुहारा से होना है। पिछले तीन मैचों में वह ओकुहारा को 3 बार हरा चुकी हैं। 

- चीन की खिलाड़ी के खिलाफ सिंधु ने शानदार प्रदर्शन किया। 8-8 पर बराबरी के बाद जब सिंधु ने पाइंट स्कोर करने शुरू किए तो 15-9 पर जाकर ही चेन को थोड़ा मौका दिया। इसके बाद फिर से फॉर्म में आते हुए सिंधु गेम पॉइंट पर पहुंच गईं। 22 वर्षीय खिलाड़ी ने धैर्य के साथ खेल का परिचय दिया। दूसरे गेम में सिंधु ने शुरू से ही बढ़त हासिल करके रखी और आसान जीत हासिल की।

- मुकबला जीतने के बाद सिंधु ने कहा कि आज जीतना जरुरी था, क्योंकि मैं मेडल का रंग बदलना चाहती थी। मैं जीतना चाहती हूं और मेरा लक्ष्य गोल्ड मेडल जीतना है। उन्होंने कहा कि सारा ध्यान मेरा अब इसी पर है। 

- सिंधु ने कहा कि जब आप फाइनल में पहुंच जाते हैं, तो आप जीतना चाहते हैं। आप देश के लिए गोल्ड मेडल जीतना चाहते हैं। रियों ओलिंपिक में भी यही था। मैं वहां भी गोल्ड जीतना चाहती थी। 

- सिंधु ने कहा कि फाइनल मुकाबला कड़ा होने वाला है। हालांकि ओकुहारा को मैं ओलिंपिक में 3 बार हरा चुकी, लेकिन ये मैच नया होगा और नई रणनीति होगी।