अमेरिका पहुंचे इमरान को ट्रंप प्रशासन की चेतावनी, कहा- आतंकियों पर दिखावा नहीं, करें ठोस कार्रवाई

Image Source Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली(21 जुलाई): पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान अपनी तीन दिवसीय यात्रा के लिए वाशिंगटन पहुंच गए हैं। पाकिस्तान के सेनाध्यक्ष जनरल क़मर जावेद बाजवा और इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस यानि आईएसआई के महानिदेशक फ़ैज़ हमीद, वाणिज्य के लिए प्रधानमंत्री के सलाहकार अब्दुल रज्जाक दाऊद प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ हैं। यह पहली बार है जब व्हाइट हाउस में प्रधानमंत्री के साथ दो शीर्ष जनरलों का आगमन हुआ है।

 वहीं, दूसरी तरफ इससे पहले अमेरिका ने पाकिस्तान को कड़ी फटकार लगाई है। अमेरिका ने दो टूक कहा है कि हाफिज सईद जैसे आतंकियों के आकाओं के खिलाफ कार्रवाई का वह सिर्फ दिखावा न करे, बल्कि यह सुनिश्चित करे कि इस तरह की कार्रवाई निरंतर होती रहे।  ट्रंप प्रशासन उनका गर्मजोशी से स्वागत करने की तैयारी में है। वह ट्रंप और उनके कैबिनेट के कई सदस्यों के साथ राष्ट्रपति भवन व्हाइट हाउस में लंच भी करेंगे। 

हालांकि ट्रंप प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों ने यह साफ कर दिया है कि जब तक यह नहीं दिखता कि पाकिस्तान आतंकवाद और आतंकी संगठनों के खिलाफ ठोस और सतत कार्रवाई कर रहा है, तब तक अमेरिका से उसे मिलने वाली सैन्य सहायता रुकी रहेगी। बता दें, इमरान खान अमेरिका पहुंच चुके हैं, उनकी यह तीन दिवसीय यात्रा है। सोमवार को व्हाइट हाउस में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से उनकी मुलाकात होनी है। 

ट्रंप प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, 'प्रधानमंत्री इमरान खान को व्हाइट हाउस बुलाकर अमेरिका यह संदेश देना चाहता है कि आतंकवाद को लेकर अगर पाकिस्तान अपनी नीति में बदलाव करता है तो संबंधों को दुरुस्त करने के लिए दरवाजे खुले हैं। एक अधिकारी ने कहा, 'जैसा कि आप जानते हैं कि हमने जनवरी 2018 में पाकिस्तान की सुरक्षा मदद रोक दी थी। अभी भी इस नीति में कोई बदलाव नहीं होने जा रहा है। हम सिर्फ दिखावा नहीं, बल्कि सतत कार्रवाई देखना चाह रहे हैं। हम स्थिति पर नजर रख रहे हैं। हम यह देखेंगे कि क्या पाकिस्तान की ओर से उठाए गए कदम स्थिर और सतत हैं या नहीं।

लॉबिंग पर PAK को भरोसा

पाकिस्तान ने अमेरिका के साथ अपने रिश्ते सुधारने के लिए एक प्रमुख लॉबिंग फर्म को काम पर रखा है। 2017 में डोनाल्ड ट्रम्प के पद संभालने के बाद से ही पाकिस्तान और अमेरिका के बीच संबंध अच्छे नहीं हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति ने कई बार पाकिस्तान को आतंकी संगठनों पर लगाम लगाने में नाकाम रहने और आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में उसकी भागिदारी को लेकर नसीहत दे चुके हैं।प्रधानमंत्री इमरान खान सोमवार को अमेरिकी राष्ट्रपति से ओवल में कार्यालय में मिलने वाले हैं। बता दें कि लगभग चार वर्षों के बाद कोई पाकिस्तानी नेता अमेरिकी दौरे पर जा रहा है। इससे पहले अक्टूबर 2015 में नवाज शरीफ अमेरिका दौरे पर गए थे। समाचार एजेंसी के मुताबिक पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने वाशिंगटन में रेनॉल्ड्स और उनकी टीम के सदस्यों के साथ चर्चा की। इस दौरान उन्होंने लॉबिंग फर्म के साथ अनुबंध पर हस्ताक्षर किया।