कामगारों को अब नो कैश, खातों और चेक से मिलेगा वेतन

हैदराबाद (4 दिसंबर): नोटबंदी के बाद सरकार देश में कैशलेस इकोनॉमी को बढ़ावा दे रही है। सरकार के इस कवायद का मकसद नगदी के चलन को कम कर भ्रष्टाचार और कालेधन पर लगाम लगाना है। इसी कड़ी में शनिवार को हैदराबाद में एक कार्यक्रम में केंद्रीय श्रम मंत्री बंडारू दत्तात्रेय ने कहा कि कामगारों को अब कैश नहीं बल्कि बैंक खातों और चेक के जरिए भुगतान किया जाएगा। जिससे वेतन भुगतान के मामले में होने वाले शोषण को खत्‍म किया जा सके। 

केंद्रीय श्रम मंत्री बंडारू दत्तात्रेय ने कहा कि इसके लिए वेतन भुगतान कानून में जल्‍द ही संशोधन किया जाएगा। ताकि कामगारों को सभी तरह के भुगतान बैंक खातों व चैक के जरिए किए जा सकें। किसी भी तरह का नकदी लेन-देन नहीं होगा।

साथ ही उन्होंने कहा कि इस पहल के जर‍िए कामगारों को वेतन भुगतान में किसी तरह की गड़बड़ी या शोषण को रोका जा सकेगा और जल्द ही इस संबध में दिशा निर्देश जारी किए जाएगें। उन्‍होंने कहा कि सबसे पहले कार्यकारी निर्देश दिया जाएगा। उसके बाद, कानून में संशोधन किया जाएगा।