दिल्ली-गुड़गांव के बीच नहीं होगी ट्रैफिक की समस्या, तारों पर लटककर चलेंगे ड्राइवरलेस पॉड्स

नई दिल्ली (11 सितंबर): दि्ल्ली और गुड़गांव के बीच ट्रैफिक की समस्या हमेशा के लिए खत्म होने वाली है। सरकार ने इसके लिए प्लान तैयार कर लिया है। इस समस्या को खत्म करने के लिए मेट्रिनो पॉड टैक्सी के संचालन का प्लान तैयार किया गया है।

इसके तहत धौलाकुआं को मानेसर से जोड़ा जाएगा। यही नहीं, बल्कि ओल्ड सिटी के तमाम इलाकों को भी मेट्रिनो से जोड़ा जाएगा। फर्स्ट फेज में मेट्रिनो का संचालन धौलाकुआं-मानेसर कॉरिडोर के बीच पड़ने वाले उद्योग विहार से राजेशर पायलट चौक तक किया जाएगा और इस कॉरिडोर पर ही निर्माण कार्य सबसे पहले शुरू होगा। सेकंड फेज में उद्योग विहार से धौलाकुआं और थर्ड फेज में मेट्रिनो राजेश पायलट चौक से मानेसर तक जाएगी। तीनों फेजों का काम 2018 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। चौथे फेज में ओल्ड सिटी के तमाम इलाकों को कनेक्ट किया जाएगा।

क्या है ड्राइवरलेस पॉड्स मेट्रिनो - मेट्रिनो एक ड्राइवरलेस व्हीकल है। यह रोपवे पर चलता। - रोपवे प्रोजेक्ट इलेक्ट्रिसिटी से काम करता है। ड्राइवरलेस यह व्हीकल कंट्रोलरूम से कंट्रोल होगा और कुछ ही स्टेशनों पर रुकेगा। - फुली ऑटोमैटिक ये पॉड्स नेटवर्क कंट्रोल रूम से कंट्रोल होंगे और वहीं से कमांड लेंगे। - कुछ महीने पहले मोदी से सामने भी मेट्रिनो प्रोजेक्ट का प्रजेंटेशन हो चुका है। - प्रोजेक्ट के मुताबिक एक पॉड में 5 लोग बैठ सकते हैं। इससे एक घंटे में लगभग 7500 लोग सफर कर सकेंगे। - गडकरी के मुताबिक इस सर्विस के शुरु होने पर मेट्रो और सड़कों पर ट्रैफिक का प्रेशर कम होगा।

हाइवे ऐडमिनिस्ट्रेटर अशोक कुमार शर्मा ने बताया कि दिल्ली और गुड़गांव के बीच ट्रैफिक जाम की समस्या को खत्म करने के लिए मेट्रिनो मास रैपिड ट्रांजिट सिस्टम शुरू करने का प्लान बनाया गया है। फर्स्ट फेज के 24 किमी. लंबे रूट पर 882 करोड़ खर्च किए जाएंगे। यह रूट उद्योग विहार से शीतला माता मंदिर रोड तक होगा। फर्स्ट फेज में जितनी दूर तक मेट्रिनो का संचालन होगा, उसमें 14 स्टेशन बनाए गए हैं। 

नैशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया के अफसरों के अनुसार इस प्रोजेक्ट को शुरु करने के लिए अलग अलग कंपनियों से एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट भी आमंत्रित किया गया है। 2 मई को कंपनियों का चुनाव किया जाएगा। जिस कंपनी को चुना जाएगा, उसे यह काम बीओटी बेसिस (बिल्ट ऑपरेट एंड ट्रांसफर) पर 25 साल के लिए अलॉट किया जाएगा।

कितना होगा किराया : मेट्रिनो से सफर करने वालों के लिए न्यूनत किराया 20 रुपये तय किया गया है, जो पहले 4 किलोमीटर के लिए होगा। इसके बाद 5 से 7 किमी. तक किराया 25 रुपये और 8 से 15 किमी. तक किराया 30 रुपये होगा। 16 से 40 किमी. तक का किराया 40 और 40 किमी. से अधिक दूरी तय करने वालों के लिए किराया 50 रुपये होगा।