250 साल में पहली बार, ओपन चैलेंज देकर पुरुष पहलवान को किया चित

कानपुर (2 अगस्त): अभी कुछ दिनों पहले सलमाल खान की फिल्म सुल्तान में एक सीन था, जिसमें महिला पहलवान का किरदार निभाने वाली अनुष्‍का शर्मा एक युवक से कुश्‍ती करती हैं और उसको पलभर में हरा देती हैं। ऐसा फिल्मों में ही देखने को मिलता है, लेकिन कानपुर के जागेश्‍वर अखाड़ा में पुरुषों के बीच हो रही पहलवानी के बीच एक महिला ने ओपन चैलेंज दे दिया और 7 मिनट में ही पुरुष पहलवान को चित कर दिया।

250 साल के इतिहास में पहली बार महिला ने पहलवान को किया चैलेंज... - इस दौरान देश भर के पहलवान दंगल में हिस्सा लेने कानपुर पहुंचते हैं। - 1 अगस्‍त को झांसी की एक महिला रेनू भी यहां दंगल देखने आई थी। - इसी बीच रेनू ने दंगल में पुरुष पहलवानों को खुला चैलेंज कर दिया। - बताया जा रहा है कि 250 साल के इतिहास में यह पहली बार हुआ है कि जब किसी महिला ने पुरुष पहलवान को चैलेंज किया हो।

7 मिनट भी नहीं टिक सका पहलवान... - रेनू के चैलेंज से दंगल में मौजूद सभी पहलवान हैरान हो गए थे, लेकिन इलाहबाद के महेन्द्र ने महिला का चैलेंज स्वीकार कर किया। - महिला-पुरुष के दंगल को देखने के लिए भीड़ का संख्‍या और बढ़ गई। - दोनों के बीच करीब 7 मिनट तक दंगल चला। - इस दौरान रेनू ने महेंद्र को ऐसी पटखनी दी कि उसके दावं को देख सभी हैरान रह गए।

5 साल से कुश्‍ती सीख रही हैं रेनू - रेनू ने बताया, वह झांसी की रहने वाली हैं। महारानी लक्ष्मी बाई अखाड़े में कुश्‍ती सीखी है। - 5 साल में उन्‍होंने कुश्‍ती के दावं सीखे। रोजाना सुबह और शाम करीब 6 घंटे कुश्‍ती का अभ्यास करती हैं। - उन्‍होंने कहा, जब मुझे कानपुर में दंगल की जानकारी हुई तो मैं अपने आप को रोक नहीं पाई। - दंगल के रोमांच के बीच मैंने पुरुष पहलवान को ओपन चैलेंज कर दिया। - मुझे इस बात की खुशी है कि अब महिलाएं, पुरुषों से पीछे नहीं हैं। - मेरा सपना देश के लिए कुश्‍ती लड़ना है।