'औरतों को ड्राइव करने दिया गया तो शैतान से होगा सामना'

नई दिल्ली (12 अप्रैल): सऊदी अरब से सबसे वरिष्ठ धार्मिक नेता मुफ्ती शेख अब्दुलअजीज़ बिन अब्दुल्ला अल-शेख ने महिलाओं के ड्राइविंग पर प्रतिबंध की वकालत की है। मुफ्ती शेख का कहना है कि औरतों का ऐसा करना एक खतरनाक मसला है। ऐसा करने पर "शैतान से औरतों का सामना होगा।"

ब्रिटिश अखबार 'द टेलीग्राफ' की रिपोर्ट के मुताबिक, मुफ्ती शेख ने कहा, कि "कमजोर रूह वाले और औरतों के लिए जुनून रखने वाले मर्द" ड्राइवर औरतों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। उन्होंने कहा अकेले ड्राइव करने पर औरतों के रिश्तेदारों को पता भी नहीं लगेगा कि वे कहां गईं।

महिलाओं के हक रूढ़िवादी इस्लामी देश में लंबे समय से एक मुश्किल मुद्दा रहा है। लेकिन सऊदी अरब में महिलाओं के ड्राइविंग के लिए जरूरी लोकल लाइसेंस उन्हें जारी नहीं किया जाता।  

महिलाओं के विषय के अलावा भी मुफ्ती पहले भी कई अन्य मामलों पर मुखर रहे हैं। मार्च में उन्होंने सऊदी अरब में मुस्लिमों के शतरंज खेलने के लिए मना किया था। उन्होंने कहा था कि यह "नफरत और शत्रुता" बढ़ाता है। इससे पहले साल 2014 में शेख अल-शेख ने कहा था कि ट्विटर सभी बुराइयों और बर्बादियों की जड़ है। सोशल मीडिया का इस्तेमाल बुराई और नुकसान का प्रसार करता है।