'महिलाओं को नहीं आना चाहिए शनि के सामने'

नई दिल्ली(9 अप्रैल): महाराष्ट्र के अहमद नगर जिले के प्रसिद्ध शनि शिंगणापुर मंदिर में शुक्रवार को 400 साल से चली आ रही परंपरा टूट गई। शनि शिंगणापुर मंदिर में महिलाओं को प्रवेश मिलने के बाद ज्योतिष और द्वारिका पीठ के पीठाधीश्वर शंकराचार्य स्वरुपानंद सरस्वती ने महिलाओं के पवित्र चबूतरे पर चढ़कर पूजा करने और तेल चढ़ाने की अनुमति मिलने का स्वागत तो किया, लेकिन चेताया भी कि महिलाओं को शनि के सामने नहीं पडऩा चाहिए, शनि की पूजा से अनिष्ट हो सकता है।

उन्होंने कहा कि महिलाओं के लिए शनि की पूजा वर्जित है। ।शंकराचार्य ने कहा कि शनि ईश्वर या देवता नहीं, वह सिर्फ ग्रह है। उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि महिलाएं हर क्षेत्र, हर दिशा में आगे बढ़ें, लेकिन धर्म के क्षेत्र में जो मर्यादाएं व परंपराएं उन पर लागू हैं, उसका पालन करें, क्योंकि इसी में उनका हित है। उन्होंने कहा कि मंदिर में भगवान की प्रतिमा का स्पर्श और पूजा का अधिकार केवल उस मंदिर के पुजारी का ही होता है, बाकी सभी को दूर से दर्शन कर फल की प्राप्ति होती है।

इस मामले पर योग गुरु बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि सृष्टि निर्माता ईश्वर ने अपनी संतानों में कोई भेद नहीं किया तो मंदिर में भेद कैसे। दक्षिण काली मंदिर पीठाधीश्वर महामंडलेश्वर स्वामी कैलाशानंद ब्रह्मचारी न भी कहा कि किसी भी मंदिर में पूजा अर्चना के लिए स्त्री पुरुष भेद किया जान अनुचित है।