महिला दिव्यांग खिलाड़ी के साथ रेलवे का भद्दा मजाक, दिया अपर बर्थ

नई दिल्ली (11 जून): एक तरह जहां रेल मंत्री सुरेश प्रभू रेल यात्रियों की सुविधाओं के लिए तरह-तरह की कवायतें कर रहे हैं। ट्विटर तक के जरिए मदद कर रहे हैं। लेकिन रेलवे की कुछ मनमौजी अधिकारी और कर्मचारी उनकी इस मुहिम को पलिता लगाने में जुटे हैं। रेल कर्मचारियों ने एक महिला दिव्यांग खिलाड़ी के साथा भद्दा मजाक किया है।

दरअसल नागपुर से दिल्ली को चलने वाली गरीबरथ एक्सप्रेस में एक दिव्यांग खिलाड़ी को अपर बर्थ अलॉट कर दिया गया। सुवर्णा राज नाम की इस खिलाड़ी ने अपना बर्थ बदलने के लिए TTE और गार्ड से कई बार गुजारिश की लेकिन उनकी बात अनसुनी कर दी गई। नतीजतन सुवर्णा को ट्रेन की फर्श पर सोकर सफर करना पड़ा। पोलियो इंफेक्शन की वजह से सुवर्णा 90 प्रतिशत डिसेबल हैं, पैरा एथिलीट सुवर्णा कई मेडल भी जीत चुकी हैं। शनिवार रात सुवर्णा की समस्या को ट्विटर के जरिए रेल मंत्री सुरेश प्रभु तक भी पहुंचाया गया।

सुवर्णा की ट्रेन सुबह 10:20 बजे निजामुद्दीन स्टेशन पहुंची। यहां पहुंचने सुवर्णा ने कहा कि मैंने दिव्यांग कोच में टिकट बुक की थी, लेकिन मुझे अपर बर्थ अलॉट किया गया। मुझे जमीन पर सोना पड़ा। हमें क्या चाहिए यह पूछने वाला भी ट्रेन में कोई नहीं था। मैं इंटरनेशनल स्टैंडर्ड की चीजें नहीं मांग रही, बस वही मांग रही हूं जो इंसान होने के नाते हम डिजर्व करते हैं। सुवर्णा ने कहा कि रेलमंत्री सुरेश प्रभु को दिव्यांगों के कोच में सफर करना चाहिए ताकि वह जमीनी हकीकत समझ सकें।