पालतू कुत्तों के चूमने-चाटने से सावधान, जान भी जा सकती है!

नई दिल्ली (4 जुलाई) :  पालतू कुत्तों से ज़्यादा घुलने-मिलने वाले सावधान। डॉक्टरों की मैगजीन बीएमजे के मुताबिक 70 वर्षीय एक महिला मौत के मुंह तक इसलिए पहुंच गई थी क्योंकि उसके ग्रेहाउंड कुत्ते ने उसे चूमा था, जिसकी वजह से उसे संक्रमण हो गया।  

महिला की पहचान नहीं खोली गई है। ये महिला अपनी एक रिश्तेदार से फोन पर बात कर रही थी तो उसकी आवाज लड़खड़ानी शुरू हो गई। फिर महिला की आवाज ही आनी बंद हो गई। रिश्तेदार ने कुछ अनहोनी की आशंका को देखते हुए इमर्जेंसी सर्विसेज़ को सूचित किया।

जब महिला के घर पैरामेडिक टीम पहुंची तो उसे कुर्सी पर अचेत पाया गया। महिला को पहले से मिर्गी की शिकायत थी। लेकिन पिछले चार दिन से उसे सिरदर्द, बुखार, ठंड और डायरिया की परेशानी बढ़ गई थी। अचानक उसकी किडनी भी फेल हो गई।

ब्लड टेस्ट से पता चला कि महिला को Capnocytophaga canimorsus बैक्टीरिया का संक्रमण हुआ था। ये बैक्टीरिया कुत्तों-बिल्लियों के मुंह में पाया जाता है। महिला को दो हफ्ते तक आईसीयू में रखा गया। कुल एक महीना अस्पताल में रखने के बाद महिला को घर जाने के लिए छुट्टी मिली।

मैगजीन में इस केस का उल्लेख इसलिए किया गया है क्योंकि अमूमन कुत्ते के काटने या खंरोच से इस बैक्टीरिया का संक्रमण होता है। लेकिन यहां कुत्ते ने महिला को जीभ से चूमा-चाटा था। मेडिकल एक्सपर्ट्स के मुताबिक उम्रदराज़ लोगों में संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है क्योंकि उनकी प्रतिरोधक क्षमता उम्र के साथ कम होती जाती है।

डेली मेल की रिपोर्ट के अनुसार ब्रिटेन में पिछले 26 साल में Capnocytophaga canimorsus के केवल 13 मामले सामने आए हैं।