टेरी के VC पर यौन उत्पीड़न का आरोप, पीड़िता बोली- जबरदस्ती किस करते थे पचौरी

नई दिल्ली (11 फरवरी): टेरी (द एनर्जी रिसर्च इंस्टीटयूट) के कार्यकारी उपाध्यक्ष आरके पचौरी पर एक बार फिर एक महिला ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है। महिला का दावा है कि पचौरी ने कई अन्य महिलाओं के साथ भी यौन उत्पीड़न किया है। साथ महिला ने कहा कि उसके द्वारा कई बार पुलिस में शिकायत करने के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं हुई है।

महिला ने बताया कि पिछले साल फरवरी में उसने पुलिस केस दर्ज कराने की कोशिश की थी। लेकिन कुछ नहीं हुआ। इसलिए अब वह पांच पन्नों का एक लेटर जारी कर ये आरोप सार्वजनिक कर रही है। महिला ने इसमें बताया है कि पचौरी अक्सर उसे बिना किसी काम के ही अपने दफ्तर में बुला लेते थे। जबरदस्ती किस करने की कोशिश करते थे। उसे असहज स्थिति का सामना करना पड़ता था। इससे बचने के लिए उनके बुलाने पर कई बार मैं अपने साथियों को भेज देती थी।

महिला की वकील वृंदा ग्रोवर ने बुधवार को बताया कि उनकी मुवक्किल ने पचौरी के उत्पीड़न से तंग आकर 2003 में टेरी छोड़ दिया था। उधर, पचौरी के वकील आशीष दीक्षित ने आरोपों का खंडन करते हुए कहा कि यह कोई नए आरोप नहीं हैं। सुनवाई से पहले मीडिया में चर्चा में आने के लिए इस तरह के आरोप लगाए जाते रहे हैं। 

महिला ने बताया कि 26 फरवरी 2015 को उनकी वकील ग्रोवर ने मामले को लेकर डीसीपी प्रेम नाथ से मुलाकात की थी। प्रत्र भी भेजा लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई।

दिल्ली पुलिस उपायुक्त प्रेम नाथ ने ग्रोवर के दावों का खंडन करते हुए कहा कि उन्होंने पुलिस को पीड़िता की कोई जानकारी नहीं दी, जिससे बयान दर्ज किया जा सके। प्रेम ने कहा कि पीड़ित महिला को सामने आकर अपना बयान दर्ज कराना होगा, तभी जांच हो पाएगी। लेकिन पीड़िता के वकील ने कुछ भी बताने से इनकार कर दिया। ऐसे में पुलिस कैसे कार्रवाई कर सकती है।