माल-ए-मुफ्त, दिल-ए-बेरहम : गलती से आए खाते में 46 लाख डॉलर, हैंडबैग्स पर ही उड़ा दी मोटी रकम

नई दिल्ली (5 मई) :   ऑस्ट्रेलिया के सिडनी एयरपोर्ट पर बुधवार शाम को 21 वर्षीय मलेशियाई युवती को गिरफ्तार किया गया। कैमिकल इंजीनियरिंग की ये स्टूडेंट ऑस्ट्रेलिया छोड़ने की कोशिश कर रही थी कि पुलिस के हत्थे चढ़ गई। क्रिस्टीन जियाक्सिन ली नाम की इस युवती की कहानी किसी फिल्म से कम नहीं। दरअसल ली के बैंक खाते में 4 साल पहले गलती 46 लाख डॉलर आ गए थे।

ली के वेस्टेपेक बैंक स्थित खाते में ओवरड्राफ्ट के तौर पर गलती से ये रकम ट्रांसफर हो गई थी। लेकिन ली ने ये बात दबाए रखी। यही नहीं ली ने 'माल-ए-मुफ्त, दिल-ए-बेरहम' वाला रवैया भी दिखाना शुरू कर दिया। उसने हैंडबैग्स और लग्जरी चीज़ें खरीदने पर लाखों डॉलर लुटा दिए। जिस वक्त ली को ऑस्ट्रेलियन फेडरल पुलिस ने एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया गया, उस वक्त भी उस पर बैंक की 33 लाख डॉलर की देनदारी थी।  

ली को वेवरले लोकल कोर्ट में गुरुवार को पेश किया गया। उस पर बेइमानी से वित्तीय लाभ उठाने और जानबूझकर आपराधिक बर्ताव करने के आरोप लगाए गए हैं। ली को इस शर्त पर ज़मानत दी गई कि वो सिडनी के उपनगर राइड में दिन में दो बार पुलिस के सामने हाजरी लगाया करेगी। ली ने अपना इमरजेंसी पासपोर्ट जमा करा दिया है। ली उपनगर रोड्स में बॉयफ्रेंड विंसेट किंग के साथ रहती है। ली को एक रात जेल में बितानी होगी क्योंकि उसके बॉयफ्रेंड ने 1000 डॉलर का बॉन्ड भरकर उसकी ज़मानत देने की कोशिश की। लेकिन बॉयफ्रेंड के पास मलेशियाई आईडी होने की वजह से उसकी पहचान की पुष्टि नहीं कर सकते। यानी उन्हें ज़मानत नामंजूर करनी होगी। ज़मानत के पते पर स्पैलिंग की गलती भी है जिसे मजिस्ट्रेट के सामने ठीक कराना होगा। उसी के बाद ली को ज़मानत मिल पाएगी।  

कोर्ट ने ये भी कहा कि पुलिस फ्रॉड यूनिट ने इस मामले में जांच 2012 में खाते से पैसे निकलने के बाद ही शुरू कर दी थी लेकिन अरेस्ट वारंट इस साल 4 मार्च को ही जारी किया गया।

ली ने अपने वकील को बताया कि उसने मलेशिया अपने माता-पिता के पास जाने के लिए इमरजेंसी पासपोर्ट हासिल किया था। ली के मुताबिक उसके माता-पिता को उसकी गिरफ्तारी के बारे में कुछ पता नहीं है।