दोस्ती के नाम पर कलंक : अंतिम संस्कार के लिए अॉनलाइन जुटाए पैसे हड़पे

नई दिल्ली (6 अप्रैल) : फॉटेक्स दंपती की 26 वर्षीय बेटी ताबाथा का कुछ दिन पहले कैलिफोर्निया में निधन हो गया। ताबाथा के अंतिम संस्कार के लिए उसकी एक सहेली क्रिस्टल जेंटली ने ऑनलाइन फंडरेज़िंग अकाउंट बनाया। जिससे कि अंतिम संस्कार पर होने वाले खर्च के लिए लोग पैसे भेज सकें।

डब्ल्यूएमयूआर की रिपोर्ट के मुताबिक ताबाथा के पिता गाइ फॉटेक्स ने सोचा कि क्रिस्टल ने उनकी मदद के लिए ये कदम उठाया। उन्होंने क्रिस्टल की प्रशंसा भी की। ताबाथा की मां शीला ने वाशिंगटन पोस्ट को बताया    कि दोस्तों और परिवार के सदस्यों ने दिल खोल कर फंड के लिए डोनेशन दिया। शीला ने भी क्रिस्टल को इसके लिए शुक्रिया कहा।

न्यू हैम्पशॉयर में जब ताबाथा को याद करने के लिए 'सेलिब्रेशन ऑफ लाइफ' नाम से कार्यक्रम का आयोजन किया गया तो क्रिस्टल जेंटली वहां पहुंची ही नहीं। फॉटेक्स दंपती ने उससे संपर्क किया तो वो व्यस्तता का बहाना बना कर फोन कॉल्स लेने से बचती रही। आखिर थक कर फॉटेक्स दंपती ने पुलिस से संपर्क किया।  

फॉटेक्स परिवार ने जब GoFundMe से अकाउंट के बारे में संपर्क किया तो उन्हें पता चला कि उसे बंद किया जा चुका है और सारा पैसा निकाला जा चुका है। शीला फॉटेक्स ने कहा कि ये पैसे का सवाल नहीं बल्कि ताबाथा के साथ धोखा है जो खुद अपने लिए आकर खड़ी नहीं हो सकती।  

नाशुआ पुलिस के मुताबिक अब 26 वर्षीय क्रिस्टल को अंतिम संस्कार के लिए जुटाई गई राशि को हड़पने का आरोपी बनाया गया है। उस पर धोखा देकर चोरी करने का आरोप है। क्रिस्टल अब ज़मानत पर रिहा है। ताबाथा के पिता ने कहा कि एक दोस्त जो अब ज़िंदा नहीं है के साथ इस तरह का व्यवहार बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। ताबाथा के पिता ने कहा कि इन दोनों की दोस्ती बहुत पुरानी और गहरी थी और एक समय तो दोनों साथ भी रहीं।

'यूनियन लीडर'  की रिपोर्ट के मुताबिक क्रिस्टल पर 5400 डॉलर की रकम हड़पने का आरोप है। क्रिस्टल को अब मई में अदालत में पेश होना है। आरोप साबित होने पर उसे 15 साल जेल हो सकती है।