खेल-खेल में 'कातिल' बनी कार


नई दिल्ली (15 जून): राजधानी दिल्ली के पास गुरुग्राम एक दिल दहलाने वाला वाला मामला सामने आया है। यहां पर खेल-खेल में दो जुड़वां बहनों की जान चली गई। दोनों बहनें खेल-खेल में कार में बैठ गईं, तभी कार का दरवाजा लॉक हो गया और दोनों बहनों का दम घुट गया।


हर्षा और हर्षिता के पिता फौज में नौकरी करते हैं। परिवार के लोगों का कहना है कि ये कार दोनों बच्चियों के घर के पास ही बेकार हालत में खड़ी थी। बुधवार को दोनों बच्चियों के लापता हो जाने के बाद से जब परिवारवालों ने इन बच्चियों की तलाश की तो दोनों इस कार के भीतर बेसुध हाल में पड़ी थी।


शक है कि दोनो बच्चियां खेलती हुई कार के अन्दर चली गई होंगी और इसके बाद कार के दरवाजे भीतर से लॉक हो गए। लोगों का कहना है कि कार के दरवाजों का लीवर खराब था। कार के दरवाजे बाहर से खुलते थे और दरवाजों को भीतर से नहीं खोला जा सकता था। दरवाजों का लीवर खराब होने की वजह से दोनों लड़कियां बाहर नहीं आ सकी और दम घुटने से दोनों की मौत हो गई।


कार में कैद दोनों जुड़वा बहनों में एक का शव कार की अगली सीट पर मिला है तो दूसरी का कार की पिछली सीट पर। अंदाजा लगाया जा रहा है कि कार में लॉक होने के बाद दोनों बच्चियां बाहर नहीं निकल पाई होंगी और दम घुटने से दोनों बच्चियों की मौत हो गई।


बच्चियों को इस कार से निकालने के बाद परिवार वाले उन्हें पास के अस्पताल भी ले गए, लेकिन मासूमों को बचाया नहीं जा सका। ये हादसा तमाम उन अभिभावकों को आगाह करता है कि मासूम बच्चों पर नजर हमेशा रखें, थोड़ी सी चूक बच्चों के लिए खतरा बन सकती है।