महाभारत: तो इसलिए पासे भी मानते थे शकुनि की बात...

नई दिल्ली (21 फरवरी): कौरवों के मामा सकुनि में ऐसी क्या शक्ति थी जिसके कारण पासे भी उसकी बात मानते थे...? इस सवाल का जवाब बहुत कम ही लोग जानते होंगे। शकुनि गंधार साम्राज्य का राजा था। बता दें कि यह स्थान आज अफ्गानिस्तान में है।

महाभारत में हुए युद्ध के लिए लोग शकुनि को दोषी ठहराते हैं। अपने भांजे दुर्योधन को राजपाठ दिलाने के लिए उसने पांडवों के साथ छल किया। यह भी माना जाता है कि अगर शकुनि नहीं होता तो महाभारत का इतिहास कुछ और ही होता।  

पासे में बसती थी पिता की रूह शकुनी गांधारी के भाई थे। विवाह के बाद जब धृतराष्ट्र को गांधारी की विधवा वाली बात का पता चला तो वह आगबबूला हो गए और पूरे गांधार राज्य को समाप्त कर दिया। इस बीच सिर्फ शकुनि ही अकेले ऐसे व्यक्ति थे जो जीवित बचे। इसके बाद शकुनि ने कुरुवंश से बदला लेने की ठान ली। 

गांधार राज्य पर हमले के दौरान शकुनि के पिता ने इसका बदला लेने की बात कही थी। उन्होंने कहा कि उसकी मौत के पश्चात उनकी अस्थियों की राख से वह एक पासे का निर्माण करे। ये पासे ऐसे होंगे जो सिर्फ शकुनि की बात मानेंगे। ऐसा माना जाता था कि शकुनि के पासे में उसके पिता की रूह बसती थी।