News

नाश्तें में इस ब्रेड को खाने से कंट्रोल में रहेगा शुगर लेवल

डायबिटीज से पीड़ित रोगियों में अक्सर ब्लड में ग्लूकोज (Glucose) का स्तर बढ़ने की शिकायते मिल जाती है। यह स्थिति तब होती है जब आपका शरीर इंसुलिन (Insulin) को ठीक से एडजेस्ट नहीं कर पाते। जिन लोगों को डाइबिटीज होती है वो ध्यान नहीं रखते की उनको किस चीज का सेवन करना चाहिए..किस का नहीं, रोगी अधिकतर समय अपने खाने का बिल्कुल ध्यान नहीं देते है। वही वो नाश्तें में भी खानपान का बिल्कुल ध्यान नहीं देते।

न्यूज 24 ब्यूरो,  मुंबई (13 जनवरी):  डायबिटीज से पीड़ित रोगियों में अक्सर ब्लड में ग्लूकोज (Glucose) का स्तर बढ़ने की शिकायते मिल जाती है। यह स्थिति तब होती है जब आपका शरीर इंसुलिन (Insulin) को ठीक से एडजेस्ट नहीं कर पाते। जिन लोगों को डाइबिटीज होती है वो ध्यान नहीं रखते की उनको किस चीज का सेवन करना चाहिए..किस का नहीं, रोगी अधिकतर समय अपने खाने का बिल्कुल ध्यान नहीं देते है। वही वो नाश्तें में भी खानपान का बिल्कुल ध्यान नहीं देते। नाश्ते में कौन सी ब्रेड (Bread) खाना चाहिए कौन-सी नहीं। इसमें इंसुलिन का उत्पादन भी प्रभावित होता है। समय रहते अगर ब्लड शुगर लेवल (Blood Sugar Level) को कंट्रोल नहीं किया गया तो इसके आगे चलकर बूरे परिणाम हो सकते है। ऐसी स्थिति में डाइट (Diet) को लेकर काफी कंफ्यूजन रहती है। डाइबिटीज में क्या खाएं (What To Eat In Diabetes) क्या न खाएं, डाइबिटीज में ब्रेड खा सकते हैं या नहीं अगर हां तो कौन सी ब्रेड खाएं इस तरह के सवाल आपके मन में जरुर उठते होंगे। अगर आपको डायबिटीज है तो सही फूड का चुनाव करना आपके लिए हमेशा मुश्किल रहता है। कई ऐसी चीजें हैं जो आपका ब्लड शुगर (Blood Sugar) लेवल बढ़ा सकती हैं। इनसे आपको दूर रहने की सलाह दी जाती है। आप भी ब्रेकफास्ट (Breakfast) में कई बार ब्रेड शामिल कर चुकें होंगे, लेकिन कभी आपने ये सोचा कि डाइबिटीज में कौन सी ब्रेड खानी चाहिए और कौन सी नहीं.. तो आप निश्चिंत रहिए क्योकि आज हम आपको सारी जानकारी देंगे।

डाइबिटीज रोगियों को ब्लड शुगर मैनेज करने के लिए डाइट में फाइबर की मात्रा बढ़ाने की जरूरत होती है। अगर आप मल्टी ग्रेन ब्रेड खा रहे हैं तो आप फाइबर नहीं ले रहे होते हैं। मल्टीग्रेन ब्रेड में ज्यादा फाइबर नहीं होता है। इसमें केवल अनाज की मात्रा थोड़ी ज्यादा होती है।

जब भी आप ब्रेड खरीदें तो ग्लूटेन या कार्ब फ्री ब्रेड खरीदें। ज्यादातर लोग अपनी ब्रेड चुनते वक्त सोचते हैं कि ये ग्लूटेन फ्री है तो इसमें लो कार्ब भी होंगे, लेकिन ये एक गलत धारणा है। अगर इसमें से ग्लूटेन निकाल भी दिया जाता है तो भी आपकी ब्रेड कार्ब और कैलोरी से भरी हो सकती है। 

अगर एनरिच ब्रेड खाते हैं यह भी आपके लिए नुकसानदायक हो सकती है। यह ब्रेड डाइबिटीज में हेल्दी नहीं मानी जाती है. यह एक प्रकार की रिफाइन्ड ब्रेड होती है। इसको  बनाने की प्रक्रिया के दौरान इसके सारे विटामिन्स और मिनरल्स भी निकल जाते हैं, जिसके कारण ये हेल्दी नहीं रहती।

यह भी पढ़ें : शाकाहारी ही नहीं मांसाहारी भी अपने खाने में इन 5 चीजों को करें शामिल, फिर देखें कमाल


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram .

Tags :

Top